द. एशिया का पहला क्रॉस बॉर्डर प्रोजेक्ट शरू, नेपाल जाएगा तेल

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को मोतिहारी अमलेखगंज (नेपाल) पेट्रोलियम उत्पाद पाइपलाइन का उद्घाटन किया. यह दक्षिण एशिया की पहली क्रॉस बॉर्डर पेट्रोलियम प्रोडक्ट्स की पाइपलाइन है. पीएम मोदी ने नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए इस पाइपलाइन को उद्घाटन किया. इस पाइपलाइन के जरिए इंडिया से तेल नेपाल जा सकेगा.

आधे समय में पूरा प्रोजेक्ट

पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि 2015 के विनाशकारी भूकंप के बाद जब नेपाल ने पुनर्निर्माण का बीड़ा उठाया, तो भारत ने पड़ोसी और निकटतम मित्र के नाते अपना हाथ सहयोग के लिए आगे बढ़ाया. मुझे बहुत खुशी है कि नेपाल के गोरखा और नुवाकोट जिलों में हमारे आपसी सहयोग से फिर से घर बसे हैं, आम लोगों के सिर पर फिर से छत आई है. पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि यह बहत संतोष का विषय है कि दक्षिण एशिया की यह पहली क्रॉस- बॉर्डर पेट्रोलियम पाइपलाइन रिकॉर्ड समय में पूरी हुई है.

You May Like इमरान खान की पार्टी के नेता ने भारत से मांगी शरण, बोले- ‘पाकिस्तान में सुरक्षित नहीं’

जितनी अपेक्षा थी, उससे आधे समय में यह बन कर तैयार हुई है. इसका श्रेय आपके नेतृत्व को, नेपाल सरकार के सहयोग को और हमारे संयुक्त प्रयासों को जाता है. नेपाल में सस्ता हुआ पेट्रोल इस उद्घाटन के साथ ही नेपाल में पेट्रोल, डीजल और केरोसीन तेल के दाम 1.25 रुपए सस्ते हो गए. गौरतलब है कि बिहार के बेगूसराय जिले में बरौनी रिफाइनरी से दक्षिण पूर्व नेपाल के अमालेखगंज तक जाने वाले पाइपलाइन से ईधन का ट्रांसपोर्ट किया जाएगा. नेपाल ऑयल कॉर्पोरेशन के स्पोक्स पर्सन बिरेंद्र गोइत के अनुसार,, 69 किमी लंबे पाइपलाइन के आ जाने से भारत से नेपाल के बीच ईधन के ट्रांसपोर्ट पर खर्च में काफी कमी आएगी.

275 करोड़ रुपए का प्रोजेक्ट

भारतीय क्षेत्र में 32.7 किमी और नेपाल में 36.2 किमी तक 69 किलोमीटर लंबी पाइपलाइन बिछाई गई है. दोनों देशों ने मिलकर 2.75 बिलियन रुपए (275 करोड़ रुपए) खर्च किए हैं. इसमें भारत ने 2 बिलियन जबकि नेपाल ने 750 मिलियन लगाए हैं. मेरी भी प्रकृति की गोद में आने की इच्छा मोदी ने कहा कि हम अपने सहयोग से सभी क्षेत्रों में अच्छा प्रयोग कर है.

आपने मुझे नेपाल आने का निमंत्रण दिया है. मेरी भी प्रकृति की गोद में आने की बहुत इच्छा है. मैं जल्द आने का प्रयास करूंगा. 2015 के विनाशकारी भूकंप के बाद जब नेपाल ने पुनर्निर्माण का बीड़ा उठाया, तो भारत ने पड़ोसी और निकटतम मित्र के नाते सहयोग के लिए अपना हाथ आगे बढ़ाया.

3 बड़ीयोजनाओं की नोटी देवो सौगात

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 12 सितंबर को झारखंड से पूरे देश को तीन बड़ी योजनाओं की सौगात देंगे.मुख्यमंत्री रघुवर दास ने मंगलवार को सूचना भवन में इस बाबत विस्तारपूर्वक जानकारी दी. बताया कि प्रधानमंत्री किसान मानधन योजना, खुदरा । व्यापारिक एवं स्वरोजगार पेंशन योजना और एकलव्य मॉडल । विद्यालय का शुभारंभ करेंगे. वह झारखंड विधानसभा के नए भवन व साहिबगंज में मल्टीमॉडल पोर्ट का उद्घाटन करेंगे.

1238 करोड़ से बना सचिवालय भवन

प्रधानमंत्री 1238 करोड़ की लागत से बनने वाले झारखंड सचिवालय के नए भवन का भी शिलान्यास करेंगे. उन्होंने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय अटल बिहारी वाजयेपी ने जिस
उद्देश्य के साथ झारखंड को अलग राज्य बनाया था, उन्ही के सपनों का झारखंड बनाने के लिए प्रधानमंत्री यहां से ही कई बड़ी योजनाओं की शरुआत कर रहे हैं. प्रधानमंत्री ने साहिबगज में मल्टी माडल टर्मिनल का शिलान्यास किया था. अब उन्हीं के हाथों इसका शुभारंभ हो रहा है.

Tags: south korea
Leave a Comment