24.8 C
India
Monday, September 20, 2021

8 माह के बच्चे को बचाने के लिए जैवलिन थ्रोअर ने टोक्यो ओलंपिक में जीता सिल्वर मेडल कर दिया नीलाम

टोक्यो ओलंपिक 2020 के दौरान दुनिया भर के हजारों खिलाड़ी होने हिस्सा लिया जिसमें कई खिलाड़ियों ने अपने अच्छे प्रदर्शन के चलते मेडल भी अपने नाम किए हर खिलाड़ी का सपना होता है कि वह इतने बड़े मंच पर खुद को साबित कर सके और अपने देश का नाम गौरवान्वित कर सके लेकिन आज हम एक ऐसी ही खिलाड़ी की बात करने जा रहे हैं जिन्होंने टोक्यो ओलंपिक के दौरान अपने अच्छे प्रदर्शन के चलते सिल्वर मेडल अपने नाम किया लेकिन उसे उन्होंने कुछ समय बाद ही नीलाम कर दिया।

- Advertisement -

Maria M. Andrejczyk

बता दें कि इस खिलाड़ी की चर्चा सोशल मीडिया पर काफी तेजी से चल रही है। लेकिन इस बात से अभी भी बहुत लोग अनजान है कि आखिरकार उन्होंने ऐसा क्यों किया। आर्टिकल के माध्यम से हम आपको बताते हैं कि कौन है यह खिलाड़ी जिसने टोक्यो ओलंपिक के दौरान जीता हुआ अपना मेडल नीलाम कर दिया। दरअसल, हम बात कर रहे हैं पौलेंड की भालाफेंक महिला खिलाड़ी मारिया आंद्रेजिक की जिन्होंने ओलंपिक के दौरान अच्छा प्रदर्शन करते हुए सिल्वर मेडल अपने नाम किया।

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Maria M. Andrejczyk (@m.andrejczyk)

मारिया ने 8 महीने की एक बच्ची की सर्जरी के लिए अपना मेडल ढाई करोड रुपए में नीलाम कर दिया। खबरों की माने तो जिस बच्ची के लिए मारिया ने अपना सिल्वर मेडल नीलाम किया है उसके दिल में छेद है जिसकी सर्जरी अमेरिका में होना है लेकिन इस बच्ची के घरवालों के पास इतने ज्यादा पैसे नहीं थे कि वह अपनी बच्ची का इलाज करवा सके क्योंकि बच्ची के इलाज में तकरीबन 3 करोड रुपए का खर्चा आना है। ऐसे में मारिया ने अपने सिल्वर मेडल को 2.50 करोड़ रुपए में नीलाम कर दिया।

जिस बच्चे के लिए मारिया ने अपना सिल्वर मेडल नीलाम किया है उसका नाम पोल मिलोसजेक बताया जा रहा है। वही इस बात को लेकर मालिया का कहना है कि उन्हें अपने मैडल को नीलाम करने में बिल्कुल भी हिचकिचाहट महसूस नहीं क्योंकि उन्होंने ऐसा काम करते हुए एक 8 महीने बच्चे को बचाने का प्रयास कर रही है। उन्होंने बताया कि वे अपने इस बेशकीमती मेडल को बेचकर बच्चे की मदद करना चाहती थी। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि भाला फेंक खिलाड़ी मारिया खुद साल 2018 के दौरान एक खतरनाक बीमारी से जूझ चुकी है।

वही खतरनाक बीमारी से जूझने के बाद भी मारिया ने कभी हार नहीं मानी यही कारण रहा कि उन्होंने 25 साल की उम्र में टोक्यो ओलंपिक में हिस्सा लेते हुए सिल्वर मेडल अपने नाम कर लिया। और अब उन्होंने इसे नीलाम करते हुए एक बच्चे को बचाने के लिए अपनी ओर से प्रयास किया है उनके इस प्रयास की हर तरफ सराहना की जा रही है बता दे कि सोशल मीडिया पर यह खबर काफी तेजी से वायरल हो रही है और सभी मारिया के काम की सराहना कर रहे हैं।

- Advertisement -

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

112,451FansLike
1,152FollowersFollow
13FollowersFollow

Latest Articles

error: Content is protected !!