‘पैसे से ज्यादा पिता का सम्मान जरूरी’, दशरथ मांझी के परिवार ने सोनू सूद के पैसे किए वापस

आपने फिल्मों में कलाकारों को खूब स्टंट करते हुए देखा होगा। लेकिन क्या आप जानते हैं कलाकार रियल लाइफ में इस तरह के सीन को करने के लिए काफी सावधानियां बरते हैं तब जाकर ही इन सीन को पूरा किया जाता है। लेकिन आज हमारे समाज में बहुत से लोग ऐसे भी मौजूद हैं जिन्होंने कई बड़े-बड़े कामों को अंजाम दे दिया। लेकिन उन्होंने इसके लिए किसी का सहारा नहीं लिया। आज हम जिस महान शख्स के बारे में बात करने जा रहे हैं उन्होंने अपने आप में ही एक बहुत बड़ा कीर्तिमान हासिल किया है।

Dashrath Manjhi

दरअसल हम बात करने जा रहे हैं दशरथ मांझी की जी हां यह वही शख्स है जिन्होंने पहाड़ काटकर लोगों के लिए रास्ता बना दिया उनके इस काम के लिए उन्हें इंदिरा गांधी द्वारा भी सम्मानित किया गया था इतना ही नहीं उनके जीवन पर एक फिल्म भी बनाई गई है जिसमें आपने मशहूर कलाकार नवाजुद्दीन सिद्दीकी को देखा होगा। इतने ज्यादा पॉपुलर होने के बाद भी दशरथ मांझी का परिवार आज गरीबी की मार झेल रहा है।

Sonu Sood Dashrath Manjhi

वही इस बात की भनक जब सोनू सूद के कार्यकर्ताओं को लगी तो उन्होंने फौरन ही दशरथ मांझी के परिवार से संपर्क किया। और उनकी मदद करने के लिए उनके पास पहुंचे। लेकिन सोनू सूद द्वारा की जा रही मदद को लेने से इस परिवार ने मना कर दिया। बता दे कि दशरथ मांझी के परिवार ने मदद लेने से इनकार करते हुए कहा कि वे आज भी उनके सम्मान का आदर करते हैं। इसके कारण वे मदद के नाम पर पैसे नहीं ले सकते।

Dashrath Manjhi Family

वही दशरथ मांझी के परिवार की इस बात को सुनकर उनकी मदद के लिए आई सोनू सूद के कार्यकर्ताओं की आंखें भी नम हो गई और वह भी हैरानी में पड़ गए कि अपने पूर्वज के सम्मान के लिए पूरा परिवार आज भी जी जान से लगा हुआ है।

Dashrath Manjhi Family

इससे बढ़कर और कोई बात नहीं हो सकती है। हालांकि बाद में सोनू सूद के कार्यकर्ताओं द्वारा दशरथ मांझी के परिवार को राशन का सामान दिया गया। इतना ही नहीं सोनू सूद ने दशरथ मांझी के परिवार में बीमार बच्ची के इलाज का पूरा खर्चा उठाने की भी बात कही है।

Sonu Sood Helping people

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि सोनू सूद पिछले 1 साल से लगातार गरीब लोगों की मदद करते आ रहे हैं उन्होंने कोरोना के दौरान बहुत से ऐसे लोगों की मदद की जिन्हें अस्पतालों में बेड नहीं मिल पा रहे थे। इतना ही नहीं उन्होंने कोरोना की पहली लहर के दौरान दूसरे शहरों में फंसे प्रवासी मजदूरों को घर पहुंचाने का भी काम किया था।

Sonu Sood Helping outside home

इतना ही नहीं सोनू निरंतर लोगों की सेवा में लगे हुए हैं और उन से मदद मांगने वाले हर व्यक्ति की वे मदद करते हैं इतना ही नहीं उन्हें जानकारी मिलने के बाद वह अपने लोगों द्वारा लोगों की मदद लगातार करवा रहे हैं। हाल ही में सोनू सूद द्वारा एक ऑक्सीजन प्लांट का भी शुभारंभ किया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *