Categories: देश

उत्तर प्रदेश का दिल्ली जैसा हाल करने के लिए मॉरीशस से आये थे 50 करोड़ रुपये

उत्तर प्रदेश के हाथ रस कांड में फंडिंग की तह तक पहुंचने के लिए पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआइ) के कई सदस्यों व संदिग्धों के बैंक खातों की पड़ताल भी शुरू हो गई है। पुलिस और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने पीएफआई के उत्तर प्रदेश में सक्रिय रहे कई सदस्यों और कुछ अन्य संगठनों से जुड़े लोगों की जानकारी जुटाई है। अब उनकी गतिविधियों के साथ ही बैंक खातों की छानबीन शुरू की है।

बताया जा रहा है कि ईडी की शुरुआती जांच में सामने आया है कि पीएफआइ से संबंधित बैंक खातों में मॉरिशस से 50 करोड़ रुपये आए थे, जबकि पूरी फंडिंग 100 करोड़ रुपये से अधिक रुपये की थी। ईडी ने पुलिस से जांच में संदिग्धों से जुड़ी अन्य जानकारियां भी जुटा रही है।

हाथ रस कांड को लेकर उत्तर प्रदेश को जातीय संघर्ष की आ$ग में झोंकने के लिए विदेश से फंडिंग की जांच में जुटे ईडी के अफसरों के सीधे निशाने पर पीएफआइ समेत कुछ अन्य संगठन के पदाधिकारी हैं। ईडी ने मथुरा में पकड़े गए कैंपस फ्रंट ऑफ इंडिया संगठन के चार सदस्यों के विरुद्ध दर्ज एफआइआर का ब्योरा भी जुटाया है। इसके साथ ही माहौल बिगाड़ने की साजिश के केंद्र में रही वेबसाइट के बारे में तकनीकी ब्योरा जुटाने के लिए संबंधित कंपनियों से संपर्क साधा गया है।

पीएफआइ की भूमिका की जांच

ईडी दिल्ली मुख्यालय की टीम पहले से नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के विरोध में हुए हिं सक प्रदर्शनों के पीछे फंडिंग को लेकर पीएफआइ की भूमिका की जांच कर रही है। ईडी एक वेबसाइट के जरिए माहौल बिगाड़ने की साजिश व इसके लिए विदेश से फंडिंग के मामले में जल्द मनी लांड्रिंग के तहत केस भी दर्ज करेगी।

हाथ रस में देशद्रोह, कोविड-19 की गाइडलाइन व धारा-144 का उल्लंघन समेत अन्य धाराओं में दर्ज कराए गए मुकदमों में आरोपितों को चिह्नित करने की कसरत भी शुरू हो गई है। मथुरा में सोमवार को यमुना एक्सप्रेस-वे मांट टोल पर पकड़े गए कैम्पस आफ फ्रंट इंडिया के चारो संदिग्ध के खिलाफ राजद्रोह और समाज में वैमनस्यता फैलाने की धारा बढ़ाई गई है। पहले केवल शांति भंग की कार्रवाई हुई थी। चारों आरोपितों को पुलिस अभी कोर्ट में पेश करेगी।

सूत्रों का कहना है कि पुलिस ने संदेह के दायरे में आए कई लोगों से भी लंबी पूछताछ भी की है। हाथ रस में तेजी से बदलते घटनाक्रमों के बीच बीते दो दिनों में पुलिस ने अपनी कार्रवाई का दायरा बढ़ाया है। माहौल बिगाड़ने की साजिश को लेकर 19 मुकदमे भी दर्ज कराए गए हैं। वीडियो व तस्वीरों के जरिये आरोपितों को चिह्नित कर जल्द उन पर कानूनी शिकंजा कसने के कड़े निर्देश दिए गए हैं। माहौल बिगाड़ने की साजिश ने पुलिस की मुश्किलें बढ़ा दी हैं।

सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर गलत जानकारी फैलाई गई

यूपी पुलिस का दावा है कि हाथ रस को लेकर सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर गलत जानकारी फैलाई गई, जिसके कारण माहौल बिगाड़ने की कोशिश की गई और एक जाति से दूसरी जाति में लड़ाई करवाने की कोशिश की गई। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी इस मामले में एक्शन की बात कही थी। इसके साथ ही उन्होंने  विपक्ष पर माहौल बिगाड़ने का आरोप लगाया था।

बता दें कि हाथ रस जिले के बूलगढ़ी गांव में 14 सितंबर को 19 वर्षीय दलित युवती से चार लड़कों ने कथित रूप से सामूहिक दु ष्कर्म किया और फिर उसकी गला दबाकर ह त्या करने की कोशिश की। युवती को पहले जिला अस्पताल और फिर अलीगढ़ मेडिकल कॉलेज में एडमिट कराया गया, लेकिन तबीयत में सुधार न होने पर उसे दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में शिफ्ट किया गया था, जहां 29 सितंबर को इलाज के दौरान पीड़िता की मौ&त हो गई।

इस पूरे मामले में उस वक्त हंगामा मच गया, जब पुलिस ने आननफानन रात में युवती का अंतिम संस्कार कर दिया। इस घटना के बाद विभिन्न राजनीतिक दलों और संगठनों में आक्रोश देखने को मिला।

Leave a Comment