जब सड़क का जायजा लेने के लिए महिला IAS ने ड्राइविंग सीट पर बैठ दौड़ा दी वोल्वो बस

बेंगलुरु के मेट्रोपॉलिटन ट्रांसपोर्ट कारपोरेशन (BMTC) की MD और महिला IAS अफसर सी शिखा ने मंगलवार को वोल्वो बस चला कर सबको चौंका दिया। बस की ड्राइविंग सीट पर शिखा बेहद ही प्रशिक्षित और जज्बे से भरपूर दिखीं। उनकी ड्राइविंग ने सभी कर्मचारियों को बेहद प्रभावित किया। सभी ने उनकी खूब तारीफ़ की। हाल ही के दिनों में पहली बार ऐसा हुआ है कि किसी महिला IAS अफसर ने निरीक्षण के लिए खुद बस की ड्राइविंग की।

इसका एक वीडियो भी वायरल हो रहा है। वीडियो में देखा जा सकता है कि अधिकारी पूरे आत्मविश्वास के साथ ड्राइविंग कर रहीं हैं। हाल के सालों में यह पहली बार हुआ है कि कोई अधिकारी खुद बस चलाकर परीक्षण कर रहीं हो। बता दें बेंगलुरु में करीब 36 हजार यात्री रोज बस की सेवा लेते हैं। इसके लिए करीब 6400 बसें संचालित है, जबकि 14000 ड्राइवर है।

2004 बैच की IAS शिखा को सितंबर 2019 में यहां MD का प्रभार सौंपा गया है। लगातार कई दुर्घटनाओं के बाद खुद शिखा ने निरीक्षण करने का निर्णय लिया और कर्मचारियों के सामने ही बस चलाकर उन्हें प्रेरित भी किया। कारपोरेशन के अधिकारियों के साथ सी शिखा निरीक्षण के लिए पहुंची थी। उन्होंने टेस्ट ट्रैक पर खुद वोल्वो दौड़ाई। पहले तो कर्मचारी थोड़े सकपकाए लेकिन जैसे ही उन्होंने देखा कि वह एक मंझे हुए ड्राइवर की तरह बस चला रही हैं तो सभी ने तालियां बजाकर उनका उत्साह बढ़ाया।

इतना ही नहीं IAS के इस कदम ने कई लोगों को प्रेरित भी किया। इसमें खासकर कारपोरेशन से जुड़ी अकेली महिला ड्राइवर प्रेमा रमप्पा भी शामिल रहीं। प्रेमा ने बाद में कहा कि वह मैडम से प्रेरित हुई हैं। इस दौरान उन्होंने ड्राइवर से भी उनकी दिक्कतों के बारे में जाना। साथ ही उनकी दिक्कतों को दूर करने का आश्वासन भी दिया। महिला अफसर ने कहा कि मालूम है कि ड्राइवर्स को कई स्तर पर दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। बावजूद इसके यात्रियों की सुरक्षा हमारी जिम्मेदारी है और इसे ईमानदारी से निभाना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *