21.7 C
India
Wednesday, October 27, 2021

जज्बे को सलाम: नकली पैरों से फैशन शो, जिम और स्टंट से जीता लोगों का दिल

आज हम एक ऐसी नन्ही 9 साल की लड़की के बारे में बताएंगे, जिसके जज्बे को सलाम करने का मन करता है। इसके घुटने के नीचे के दोनों पैर नहीं है, ऐसे में चलने फिरने के लिए नकली पैरों का सहारा लेती है। जिंदगी में सचमुच हमें कई चुनौतियों का सामना करना पड़ता है, अब ऐसे में हमारे पास दो ऑप्शन ही रहते हैं पहला कि हम उदास होकर हाथ पर हाथ धरे बैठे रहे और इसे ही अपनी नियति मान ले और दूसरा हम चुनौती को स्वीकार कर ले और इसका सामना करते हुए कोई समाधान खोजें।

- Advertisement -

यह सब बातें इस लड़की में दिखाई देती है, इसने जीवन को जीने का समाधान खोजा है। यह सिर्फ नकली पैरों से चलती नहीं है, अपितु कई तरह के स्टंट और वर्कआउट भी करती है। इस लड़की का नाम डेसिमे मैत्रे (Daisymay Demetre) है। इस लड़की के दोनों पैर नकली है। जब 18 महीने की थी तभी घुटने के नीचे वाला हिस्सा इन्फेक्शन की चपेट में आ गया। ऐसे में इंफेक्शन पूरी बॉडी में नहीं फैले डेसिमे (daisymay demetre) के दोनों पैर काटने पड़े। इसके बावजूद उसके माता-पिता ने हार नहीं मानी बल्कि उन्होंने भी बेटी को इस तरह तैयार किया कि वो आज इस दुनिया मैं नाम कमा रही है।

डेसिमे पहली ऐसी मॉडल बन गई है जो Double Amputee (अंगच्छेदन किया हुआ व्यक्ति) होने पर भी पेरिस फैशन वीक में वॉक कर सकी। पैरों के ना होने पर भी इस बच्चे ने अपने आत्मविश्वास के साथ शानदार तरीके से रैंप वॉक किया। डेसिमे ने बचपन से ही खुद को नई तरीके से जीने के लिए तैयार कर रखा था। उसने पहले लकड़ी के पैरों से चलना सिखा फिर दौड़ना और जंप मारना भी सीखा, है ना कमाल का करिश्मा। भला बिना पैर कोई यह सब कैसे कर सकता है इतना ही नहीं वह जिम में जाकर सारे वर्कआउट भी आराम से कर लेती है। इसके अलावा डेसिमे ट्रेडमिल पर दौड़ भी सकती है। इस बच्ची को जो भी देखता है वह इसका फैन बन जाता है। कुछ लोग इतने प्रभावित हो गए कि इसके साथ फोटो भी खिंचवाते हैं, हम सभी के लिए प्रेरणा है।

हम कई बार आलस्य के चक्कर में किसी काम को ना करने का बहाना ढूंढते रहते हैं लेकिन डेसिमे ने मुश्किल हालातों में भी खुद को साबित करके दिखा दिया। “हम भी किसी से कम नहीं” इस नन्ही बच्ची को अपनी काबिलियत के लिए प्राइड ऑफ बरनिंघम अवार्ड के दौरान child of courage से सम्मानित किया जा चुका है। आज वह लाखों दिव्यांग बच्चों के लिए प्रेरणा बन गई है।

इसे भी पढ़े : –

- Advertisement -

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

112,451FansLike
1,152FollowersFollow
13FollowersFollow

Latest Articles

error: Content is protected !!