6 वर्ष की मासूम ने कैंसर पीड़ित मरीजों के लिए दुबई में किया बड़ा काम

6 वर्ष की मासूम मिशिका जिसे बचपन से लंबे बालों से बेहद प्यार था। लेकिन कैंसर पीड़ित बच्चों के दर्द को दिल से महसूस किया और अपने बालों को दान करने का फैसला ले लिया। कैंसर पीड़ित बच्चों को थेरेपी के बाद विग लगानी पड़ती है और इसके लिए बाल दान मैं मिलना बेहद मुश्किल होता है। उनके डोनेट किए हुए बाल किसी की जिंदगी में नई खुशियां ला रहे है कैंसर पीड़ितों के इलाज के लिए जब कीमोथेरेपी की जाती है तो सारे बाल झड़ जाते हैं इसके लिए विग बनाने के लिए बालों की जरूरत होती है।

कोटा निवासी सौरभ- नेहा जैन की 6 वर्षीय बेटी मिशिका जैन ने लंबे समय तक बढ़ाए बालों को कैंसर पीड़ित मरीजों को विग बनाने के लिए दान कर दिया। मिशिका ने अपने 21 इंची बालों को दान किया है। मिशिका मात्र 6 वर्ष की है तथा दुबई के डीपीएस स्कूल मैं सीनियर केजी की विद्यार्थी है। मिशिका पढ़ने में भी मेधावी व प्रतिभाशाली बालिका है। लेकिन इसने रातों-रात वो काम कर दिखाया जिस काम से वह विश्व में चर्चा का विषय बन गई। इस मासूम ने कैंसर पीड़ितों के लिए जो काम किया वह मिसाल बन गया।

मिशिका ने जब स्थानीय पेपर में एक कैंसर पीड़ित व्यक्ति को देखा जिसके सिर और पलकों के बाल नहीं थे तो उसने भी दृढ़ निश्चय कर लिया और बाल बढ़ाने में जुट गई। आज इसकी चर्चा विश्व स्तर पर हो रही है। उन्होंने यह कार्य “हेयर एंड होप” संस्था के बैनर तले किया। यह संस्था कैंसर पीड़ित मरीजों व बच्चों के लिए 2003 से काम करती है। दृढ़ संकल्पी मिशिका को उसकी मां नेहा जैन व पिता सौरभ जैन ने काफी समझाने का प्रयास किया लेकिन वह अपने फैसले पर अडिग रही।नेहा रतलाम के भंडारी परिवार से ताल्लुक रखती हैं तथा मिशिका कमलेश मंजुला भंडारी की नातिन है।

Leave a Comment