Categories: देश

Reliance Retail-Silver Lake Deal: 7500 करोड़ रुपए के निवेश से रिलायंस रिटेल को कितना होगा फायदा, जानिए इस डील की 5 बड़ी बातें

मुकेश अंबानी, चेयरमैन, रिलायंस इंडस्ट्री

दुनिया की दिग्गज टेक इन्वेस्टर कंपनी सिल्वर लेक रिलायंस रिटेल (RRVL) में 7500 करोड़ रुपये निवेश करेगी. आइए जानें इस डील से जुड़ी 5 प्रमुख बातें…

नई दिल्ली. दुनिया की दिग्गज टेक इन्वेस्टर कंपनी सिल्वर लेक रिलायंस रिटेल (RRVL) में 7500 करोड़ रुपये निवेश करेगी. इसके बदले में कंपनी को रिलायंस रिटेल में 1.75 फीसदी हिस्सेदारी मिलेगी. सिल्वर लेक ने रिलायंस की टेक कंपनी जियो प्लेटफॉर्म्स में भी 10,200 करोड़ रुपये का निवेश किया था. इस निवेश के बाद रिलायंस रिटेल वेंचर्स लिमिटेड की इक्विटी वैल्यू 4.21 लाख करोड़ रुपये हो जाएगी. RRVL की सहायक कंपनी रिलायंस रिटेल लिमिटेड भारत के सबसे तेजी से बढ़ रहे रिटेल बिजनेस का संचालन करती है.

रिलायंस इंडस्ट्रीज के डिजिटल कंपनी जियो प्लेटफॉर्म्स में कुछ हिस्सेदारी बेचने के बाद मुकेश अंबानी अपने रिटेल बिजनेस को मजबूत करने की दिशा में बढ़ रहे हैं. इसके लिए उन्हें मजबूत निवेशकों की तलाश है. सिल्वर लेक के रूप में कंपनी को अपना पहला निवेशक मिल गया है. बता दें कि सिल्वर लेक ने जियो प्लेटफॉर्म में भी निवेश किया था. पिछले सप्ताह रिलायंस ने फ्यूचर समूह के खुदरा एवं लॉजिस्टिक्स कारोबार का 24,713 करोड़ रुपये में अधिग्रहण किया था.(डिस्केलमर- न्यूज18 हिंदी, रिलायंस इंडस्ट्रीज की कंपनी नेटवर्क18 मीडिया एंड इन्वेस्टमेंट लिमिटेड का हिस्सा है. नेटवर्क18 मीडिया एंड इन्वेस्टमेंट लिमिटेड का स्वामित्व रिलायंस इंडस्ट्रीज के पास ही है.)

इस डील की पांच बड़ी बातें

सिल्वर लेक पार्टनर्स (SLP) रिलायंस रिटेल (Reliance Retail) में 7500 करोड़ रुपये निवेश करेगी. इसके बदले सिल्वर लेक को रिलायंस रिटेल में 1.75 फीसदी हिस्सेदारी मिलेगी.

इस सौदे के बाद रिलायंस रिटेल की मार्केट वैल्यू 4.21 लाख करोड़ रुपये हो जाएगी, इसकी घोषणा कंपनी ने 9 सितंबर की शेयर बाजार फाइलिंग में की.

सिल्वर लेक ने रिलायंस के Jio प्लेटफॉर्म्स में भी निवेश है. कंपनी अब तक रिलायंस जियो में 10,200 करोड़ रुपये के निवेश कर चुकी है.

इस नए निवेश के साथ RIL की मार्केट वैल्यू में Jio प्लेटफॉर्म और रिलायंस रिटेल की हिस्सेदारी 9 लाख करोड़ रुपये से अधिक हो जाएगी.

यह सौदा इसलिए महत्वपूर्ण है क्योंकि भारत में RIL अपने खुदरा व्यापार का विस्तार कर रहा है और उसकी टक्कर अमेजन और फ्लिपकार्ट जैसी कंपनियों से है.


hindi.news18.com

Leave a Comment