PM मोदी की पत्नी जशोदाबेन CAA के विरोध में शाहीन बाग में धरने पर बैठी, होश उड़ाने वाला है सच

शाहीन बाग में संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ प्रोटेस्ट चल रहा है। ऐसे में अफवाह उड़ी कि वहां प्रदर्शनकारी पैसे लेकर नारेबाजी कर रहे हैं। इसके कुछ देर बाद से सोशल मीडिया पर ऐसी फोटो आपत्तिजनक कैप्शन और दावे के साथ शेयर की जा रही है। मूर्ख लोग एक पुरानी तस्वीर को भ्रामक जानकारी के साथ साझा कर रहे हैं। इस पर कतई भरोसा नहीं किया जाना चाहिए।

Source Twitter

देशभर में संशोधित नागरिकता कानून 2019 के खिलाफ विरोध प्रदर्शन चल रहे हैं। इधर सोशल मीडिया पर देश के प्रधानमंत्री की पत्नी जशोदाबेन की एक तस्वीर आपत्तिजनक कैप्शन के साथ वायरल हो रही है। इस फोटो से जशोदाबेन मुस्लिम महिलाओं के साथ विरोध प्रदर्शन करती नजर आ रही है। तस्वीर ट्विटर पर धड़ाधड़ शेयर की जा रही है। फोटो के साथ दावा किया जा रहा है कि जशोदाबेन ने भी नागरिकता कानून के खिलाफ अपना विरोध जता दिया है। जोया नाम की एक यूजर ने टि्वटर पर फोटो शेयर कर लिखा, “भक्तों तुम्हारी अम्मा जसोदा मैया भी Shaheen Bagh protest पहुंच गई पैसे लेने लेकिन तुम्हारे पापा मोदी जी शाहिनबाग कब आओगे।”

इस फोटो को देखते ही लोगों ने शेयर करना शुरू कर दिया। सोशल मीडिया पर जशोदाबेन की यह फोटो जमकर वायरल हो गई। जशोदाबेन की इस फोटो के साथ दावा किया जा रहा है कि, वह शाहीन बाग में महिलाओं के साथ नागरिकता संशोधन अधिनियम का विरोध कर रही हैं। महिलाओं के एक समूह में बैठी यशोदा बेन का विरोध दर्ज करते हुए दर्शाया गया है। दावा किया जा रहा है कि वो नागरिकता कानून के खिलाफ अपना विरोध दर्ज करने शाहीन बाग में बैठी हैं। हालांकि फैक्ट चेकिंग में तस्वीर की सच्चाई सामने आई है। यह तस्वीर एक व्यंग्यात्मक कैप्शन के साथ फेसबुक और ट्विटर पर वायरल हो रही है

Source Google

तस्वीर के तेजी से वायरल होने के बाद फैक्स चेकिंग की गई। गूगल रिवर्स इमेज सर्च में हमने पाया कि यह फोटो साल 2016 की है। 13 फरवरी 2016 में डेक्कन क्रॉनिकल की रिपोर्ट में यह फोटो छपी थी। नरेंद्र मोदी की पत्नी अनाथ और झुग्गी वासियों के लिए उपवास पर बैठी थीं। उन्होंने तब बच्चों के लिए भूख हड़ताल की थी। 4 साल पुरानी इस फोटो को अब भ्रामक जानकारी के साथ सोशल मीडिया पर वायरल किया जा रहा है।

Leave a Comment