PM मोदी की मेहनत रंग लायी, बिना लोहे और स्टील से मुस्लिम देश में बन रहा पहला हिंदू मंदिर

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2018 में संयुक्त अरब अमीरात में दुबई के ओपेरा हाउस में वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए बोचासन वासी अक्षर पुरुषोत्तम स्वामीनारायण संस्था (BAPS) मंदिर की आधारशिला रखी थी। संयुक्त अरब अमीरात (UAE) की राजधानी अबू धाबी के पहले हिंदू मंदिर के निर्माण में महत्वपूर्ण पड़ाव पूरा हो गया है। अधिकारियों ने बताया इसकी नींव को पहली बार कंक्रीट से भरने का कार्य पूरा कर दिया गया है। मंदिर समिति के अधिकारियों ने बताया, इस मंदिर में लोहे स्टील से बनी किसी सामग्री का इस्तेमाल नहीं होगा। इस मंदिर का निर्माण भारत की पारंपरिक मंदिर वास्तुकला के तहत किया जाएगा।

Source Google

इस मंदिर के निर्माण में 400 मिलियन दिनार (699 करोड रूपए) की लागत आएगी। जब पहली बार मोदी 2015 में संयुक्त अरब अमीरात गए थे, तभी UAE सरकार ने इसके लिए 55,000 वर्ग फीट जमीन आवंटित की थी। मंदिर की नींव में एक ही बार में 3,000 घन मीटर कंक्रीट का मिशन भरा गया जो 55% फ्लाई ऐश से बना हुआ था। इससे मंदिर की नींव को दुनिया भर में प्रयोग होने वाले कंक्रीट मिश्रणों की तुलना में अधिक पर्यावरण हितैषी तरीके से भरा गया। निर्माण स्थल पर बड़ी संख्या में लोग मौजूद थे। जहां समारोह की शुरुआत प्रार्थनाओं के साथ हुई और इसके बाद मंदिर की नींव में फ्लाई ऐश कंक्रीट भरने का काम पूरा हुआ।

Source Google

UAE में भारत के राजदूत पवन कपूर और दुबई में भारत के महावाणिज्य दूत विपुल, सामुदायिक विकास प्राधिकरण के CEO उमर अल मुथन्ना और शापूरजी पलोंजी के CEO मोहनदास सैनी की मौजूदगी में पूज्य ब्रह्मविहारी स्वामी और पूज्य अक्षयमुनिदास स्वामी ने परियोजना के लिए विशेष पूजा की। समारोह के दौरान पूज्य ब्रह्मविहारी स्वामी ने कहा, “आज हमने मंदिर की अनोखी नींव भरने का कार्य प्रारंभ किया। जिसका निर्माण प्राचीन प्रौद्योगिकी के साथ आधुनिक उपकरणों से किया गया है। यह ईश्वर की कृपा, समुदाय के पूर्ण समर्थन और यहां मौजूद हर व्यक्ति के प्रेम के बिना संभव नहीं था।” उल्लेखनीय है कि इस मंदिर का निर्माण कार्य इसी साल पूरा होगा। इसके कुछ महत्वपूर्ण हिस्से को इसी साल श्रद्धालुओं के लिए खोला जाएगा। लेकिन बाकी सभी हिस्सों पर लोगों की इंट्री 2020 तक ही हो पाएगी।

Source Google
Leave a Comment