Categories: देश

पाकिस्तानी हिंदू महिला ने भारत में सरपंच बन रचा इतिहास, 5 महीने पहले ही मिली थी नागरिकता

नीता कंवर पाकिस्तान के सिंध प्रांत की निवासी थी और 5 महीने पहले ही उन्हें भारत की नागरिकता मिली। नीता कंवर ने राजस्थान के पंचायती चुनाव में शुक्रवार 17 जनवरी को एक नया इतिहास रच दिया। प्रदेश में ऐसा पहली बार हुआ है कि पाकिस्तानी मूल की महिला सरपंच बनी हो। पंचायत चुनाव के पहले चरण में टोंक के नटवाड़ा से पाकिस्तान की सिंध से भारत लौटीं नीता कंवर (36 वर्षीय) ने सरपंच का चुनाव जीत लिया है।

शुक्रवार को पहले चरण के लिए राजस्थान की 2,726 ग्राम पंचायतों पर वोटिंग हुई। 17,000 प्रत्याशी चुनाव मैदान में थे लेकिन सभी की निगाहें पाकिस्तान की मूल निवासी नीता कंवर पर टिकी थी। टोंक जिले की नटवाड़ा ग्राम पंचायत की उम्मीदवार नीता कंवर को 2,496 वोटों में से 1,073 वोट मिले। उन्होंने अपनी प्रतिद्वंदी सोना देवी को 362 वोटों से पराजित किया। बता दें टोंक जिले की नटवाड़ा ग्राम पंचायत में 7 महिलाओं ने इस पद के लिए चुनाव लड़ा। जीत हांसिल करने के बाद कहा, “मैं सभी ग्रामीणों को धन्यवाद देना चाहती हूं । जिन्होंने मुझे सपोर्ट करके मुझे जीत दिलाई। मैं अपनी ईमानदारी के साथ काम करूंगी।” इसके साथ उन्होंने अपने ससुर का भी धन्यवाद किया क्योंकि उन्होंने इस चुनाव में उनका बहुत साथ दिया था।

भारत आने के18 साल बाद नीता कंवर को पिछले साल सितंबर में नागरिकता मिली थी। अजमेर की सोफिया गर्ल्स कॉलेज की ग्रेजुएट नीता ने बताया मुझे पिछले साल सितंबर में टोंक कलेक्टर कार्यालय में नागरिकता प्रमाण पत्र प्रदान किया गया था। वह 2001 में अपनी बड़ी बहन अंजना सोढ़ा के साथ पाकिस्तान के सिंध के मीरपुर खास से राजस्थान के जोधपुर आई थीं। उन्होंने 17 जनवरी को नामांकन दाखिल किया था। नीता जिस सीट से मैदान में उतरी थीं। उस पर उनके ससुर का कब्जा था। वह टोंक जिले के उपखंड निवाई की पंचायत नटवाड़ा के एक राजपूत परिवार की बहू हैं। नीता ने बताया कि उनकी शादी पुण्य प्रताप करण से हुई थीं। उनके ससुराल की पृष्ठभूमि राजनीतिक रहीं। राजनीति में आने की प्रेरणा उन्हें अपने ससुर ठाकुर लक्ष्मण करण से मिली थी। उनका कहना है कि CAA के जरिए भारत में अच्छा जीवन यापन करने और अच्छी शिक्षा हांसिल करने में मदद मिलेगी। वह खुद लैंगिक समानता, महिला सशक्तिकरण, लड़कियों के लिए शिक्षा और उचित चिकित्सा सुविधाओं के लिए काम करना चाहती हैं।

Leave a Comment