जानिए 25 साल की उम्र में जिंदगी से हार मान चुके ए आर रहमान कैसे बने ऑस्कर विजेता!

बॉलीवुड : भारत एक सांस्कृतिक देश है यहां हर इंसान को अपने पूर्वजों से विरासत में कुछ न कुछ जरूर मिला है। जो आज उनके लिए कई बड़ी उपलब्धियों से कम नहीं। ये हम इसलिए कह रहे हैं क्योंकि आज हम जिस हस्ती के बारे में बात करने जा रहे हैं, उन्हें भी अपनी विरासत में संगीत मिला था। आज वे उसी के दम पर संगीत की दुनिया के बादशाह भी कहलाते हैं। लेकिन उनके जीवन मे एक दौर ऐसा भी जिसमे वे रोज खुद कुशी करने की सोचा करते थे। लेकिन अपनी काबिलियत के दम पर आज वे सभी के दिलों में राज करते हैं।

https://twitter.com/Priyoshah1/status/1346532975131860993

हम बात कर रहे हैं मशहूर संगीतकार ए आर रहमान की जिन्होंने अपने जीवन में बड़ी-बड़ी मुश्किलों से लड़कर संगीत की दुनिया में अपनी अलग ही पहचान बनाई है। आज रहमान किसी भी पहचान के मोहताज नहीं है। उन्होंने बॉलीवुड फिल्मों में कई सुपर हिट गाने गाए है। संगीतकार ए आर रहमान ने देश से लेकर विदेश तक भारतीय संगीत का लोहा मनवाया है।

आज 6 जनवरी को ए आर रहमान का 52वां जन्मदिन है। बता दें कि रहमान को उनकी प्रतिभा के चलते कई बड़े पुरस्कारों से भी नवाजा गया है। जिनमे दुनिया का सबसे प्रसिद्ध ऑस्कर अवॉर्ड भी शामिल हैं। 6 जनवरी 1966 में चेन्नई में जन्में ए आर रहमान का पूरा नाम अल्लाह रक्खा रहमान है। लेकिन उनका असली नाम ‘दिलीप कुमार’ था जो कि उन्हें पसंद नहीं था।

ऑस्कर अवार्ड पाने वाले संगीतकार

लेकिन रहमान के जीवन में एक समय ऐसा आया कि उन्होंने संगीत को अपना करियर समझ कर सूफी इस्लाम को अपनाने का फैसला कर लिया। इसके बाद उन्होंने बॉलीवुड में एक से बढ़कर एक गाने गाए और संगीत दिया जिसने हर किसी को उनका दीवाना बना दिया।

नाम बदलने के किस्से के बारे में बात करते हुए रहमान ने बताया था कि उन्हें अपना नाम पसंद नहीं था। उन्होंने सोचा कि नाम बदल ही लिया जाए तो अच्छा है। एक बार वो अपनी बहन की कुंडली दिखाने एक ज्योतिष के पास गए और नाम बदलने की बात कही। उन्होंने रहमान से कहा कि अपना नाम अब्दूल रहमान या अब्दूल रहीम रख लो। मां चाहती थीं कि वो अपने नाम में अल्लाह रक्खा जरूर रखें।  उन्हें रहमान नाम पसंद आया और फिर उन्होंने अपना नाम ए आर रहमान कर दिया। आज ए आर रहमान का नाम पूरी दुनिया में मशहूर हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *