अमित शाह को खून से पत्र लिख शूटर वर्तिका सिंह ने कहा – मैं दूंगी निर्भया के दरिंदों को फांसी

निर्भया गैंगरेप के दोषियों को पूरे देश में फांसी दिए जाने की मांग तेज होने लगी है। इस संबंध में अंतरराष्ट्रीय शूटर वर्तिका सिंह का बड़ा बयान आया है। शूटर वर्तिका सिंह ने यह मांग की है कि निर्भया के चारों दोषियों को एक महिला द्वारा फांसी दी जानी चाहिए। उन्होंने खून से गृहमंत्री अमित शाह को एक पत्र लिखा है पत्र में उन्होंने यह मांग की है कि निर्भया के दोषियों को फांसी देना चाहती हूं।” उन्होंने लिखा है, “मेरे द्वारा निर्भया के दोषियों को फांसी पर लटकाने से पूरे देश में एक संदेश जाएगा कि एक महिला भी फांसी दे सकती है। उन्होंने कहा कि मैं चाहती हूं कि महिला कलाकार और सांसद मेरा समर्थन करें। मुझे उम्मीद है कि इससे समाज में बदलाव आएगा।”

इधर दोषियों को जल्द से जल्द फांसी देने की मांग को लेकर पिछले 13 दिनों से अनशन पर बैठी दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल की तबीयत बिगड़ गई है। उन्हें एलएनजेपी अस्पताल ले जाया गया है अनशन की वजह से स्वाति मालीवाल का वजन भी घटा है। दिल्ली महिला आयोग के अनुसार स्वाति मालीवाल कमजोरी के चलते बात करने में भी असमर्थ है। बता दें कि इस मामले में एक दोषी की पुनर्विचार याचिका पर सुप्रीम कोर्ट सुनवाई करेगा। सुप्रीम कोर्ट में 17 दिसंबर को 2:00 बजे सुनवाई की जाएगी। दोषी अक्षय कुमार की पुनर्विचार याचिका पर तीन जजों की पीठ सुनवाई करेंगी। इधर पूरा देश निर्भया के दोषियों को सजा मिलने का इंतजार कर रहा है। लेकिन दूसरी तरफ इस मामले में दोषी कानूनी पेचीदगियों का फायदा उठाने की कोशिश कर रहे हैं। हालांकि कयास लगाए जा रहे हैं दिल्ली तिहाड़ जेल में दोषियों की फांसी की तैयारियां चल रही है। दिल्ली में जहां तिहाड़ जेल नंबर-3 में मौजूद फांसी घर की साफ सफाई के बाद उसकी सुरक्षा मजबूत कर दी गई है। निर्भया के मुजरिमों को फांसी चढ़ाने वाले संभावित जल्लादों में सबसे आगे चल रहे उत्तर प्रदेश के मेरठ शहर निवासी पुश्तैनी जल्लाद पवन कुमार को जेल अफसरों ने तमाम हिदायत देनी शुरू कर दी है।

जल्लाद पवन ने कहा, “दरअसल मैं अब तक मीडिया से इस मुद्दे पर खुलकर बात कर रहा था। मेरी भी दिली ख्वाहिश है कि मैं निर्भया के हत्यारों को फांसी के फंदे पर झूलाने पहुंचू। मामला बेहद पेचीदा और संवेदनशील है। जब से तिहाड़ जेल प्रशासन से जल्लाद को लेकर बातचीत शुरू की है। तब से मुझ पर काफी कुछ पाबंदियां लगा दी गई है।” पवन ने कहा, “मेरठ जेल के अफसरों ने सलाह दी है कि अब कुछ दिनों तक मैं किसी से ज्यादा बातचीत ना करूं, साथ ही भीड़-भाड़ से दूर रहूं। शहर के बाहर भी कहीं ना आऊं-जाऊं। अपनी सेहत का ख्याल रखूं।”

आगे जल्लाद पवन ने यह भी कहा, “मैं अब मोबाइल पर या मीडिया से तब तक ज्यादा बात नहीं करूंगा। जब तक निर्भया हत्याकांड के चारों दोषियों की मौत की सजा पर कोई अंतिम फैसला नहीं आ जाता।” निर्भया गैंग रेप हत्या मामले में चारों दोषियों पवन, मुकेश, अक्षय और विनय को जल्द फांसी देने की याचिका पर 18 दिसंबर को दिल्ली हाईकोर्ट में सुनवाई होगी। निर्भया की मां ने कहा कि चारों दोषी फांसी से बचने के लिए कानूनी दांवपेच अपना रहे हैं। उन्हें उम्मीद है कि 18 दिसंबर को हाईकोर्ट से अंतिम फैसला आएगा और डेथ वारंट जारी होने के बाद चारों को फांसी दी जाएगी।

Leave a Comment