मौलाना ने उगला ज़हर: नरेंद्र मोदी व अमित शाह के लिये आपत्तिजनक शब्दों का प्रयोग, CAA वापस लो नहीं तो जिहाद के लिए लिए तैयार रहो

“जरजिस अंसारी हाफिजुल्लाह मौलाना ने अपने भड़काऊ भाषण में PM मोदी को “अनपढ़” और “नपुंसक” कहा और गृहमंत्री को “मोटे” और “टकले” कहा। इसके अलावा, मौलाना ने गृहमंत्री अमित शाह को यह कहते हुए धमकी दी कि तुम आग से खेल रहे हो, तो हमें कमजोर ना समझें। इसके अलावा, दिल्ली के CM अरविंद केजरीवाल की तारीफ करते हुए मौलाना ने कहा कि यह केजरीवाल ही थे जिन्होंने उन्हें PM मोदी की शैक्षिक योग्यता दिखाई थी।” MK इस्लामिया चैनल नाम के एक इस्लाम वादी यूट्यूब चैनल में हाल ही में एक मौलाना जरजिस अंसारी हाफिजुल्लाह का एक भड़काऊ भाषण अपलोड किया। इस भड़काऊ भाषण में मोलाना ने कई जगह भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय मंत्री अमित शाह के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी करते और धमकी देते देखा और सुना जा सकता है।

मौलाना ने नागरिकता संशोधन (CAA) नेशनल रजिस्टर आफ सिटीजंस (NRC) बिल को बिल्कुल झूठा करार देते हुए इसे मुस्लिम विरोधी ठहराया। मौलाना अपने नफरत भरे भाषण में यह कहता है अगर मोदी या शाह उन्हें (मुस्लिम समुदाय को) देश से बाहर फेंकने की कोशिश कर रहे हैं तो वह भारत के कोने-कोने में “जिहाद” करेंगे। इस वीडियो में मौलाना को यह कहते हुए सुना जाता है कि “इसके बाप के बाप की भी ताकत नहीं है कि हमें बाहर निकाल दें। हमें निकाल कर तो दिखा मोदी हम भी “जिहाद” करने में पीछे नहीं हटेंगे”। इस वीडियो को 18 दिसंबर 2019 को अपलोड किया गया था। इसे अब तक 4 लाख से अधिक बार देखा जा चुका है। MK इस्लामिया यूट्यूब चैनल से पता चलता है कि इसे इस साल अक्टूबर में बनाया गया है। इस यूट्यूब चैनल पर इसी मौलाना द्वारा बनाया गए 13 वीडियो को शेयर किया जा चुका है। जिसे 27 लाख से अधिक बार देखा जा चुका है।

अपने नफरत भरे भाषण में लगभग 3 मिनट 30 सेकेंड पर, मौलाना ने सरकार को सीधे CAA और NRC को वापस लेने या “जिहाद” के लिए तैयार रहने की धमकी दी। मौलाना ने कहा कि अगर इस कानून पर तुम अटल रहे तो इतना याद रखना कि मरने और मारने से कोई नहीं चुकेगा। हालांकि, सरकार ने बार-बार स्पष्ट किया है कि CAA को लेकर भारतीय मुसलमानों को बिल्कुल डरने की आवश्यकता नहीं है। लेकिन मौलाना ने अपने श्रोताओं के बीच यह कह कर झूठ फैलाया कि सरकार देश से सभी मुसलमानों को बाहर निकालना चाहती है। मोदी सरकार द्वारा नागरिकता अधिनियम लाए जाने के बाद से देश भर में इसके विरोध में हिंसक प्रदर्शन हो रहे हैं। जबकि देशभर में कई पाकिस्तानी हिंदू प्रवासियों में ऐतिहासिक नागरिकता संशोधन अधिनियम को पारित करने का जश्न मनाया और उसकी सराहना की है। इससे उसकी खोई हुई आशा वापस आ गई। लेकिन दूसरी तरफ मुस्लिम हिंसा पर उतारू हो गई और सार्वजनिक संपत्ति को नष्ट करने के साथ-साथ देश में अराजकता फैलाने में जुटी है।

Source: hindi.opindia

Leave a Comment