26.1 C
India
Monday, October 18, 2021

मध्यप्रदेश इंदौर की मूकबधिर बेटी ने शहर का नाम किया रोशन, मिस इंडिया बन वर्षा डोंगरे ने रचा इतिहास

अगर दिल में कुछ करने का जज्बा हो तो फिर उसे कोई ताकत नही जो उसे रोक सके। कहने का मतलब ये है कि अगर आपने लक्ष्य हासिल करने का सोच रखा हो तो फिर उसके लिए आपको चाहे खुले आसमान में बैठकर पड़ना पड़े या अंधेरे में.. एक सफल व्यक्ति वहीं है जो मेहनत से कभी हार नही मानता.. बल्कि जी जान के साथ अपने लक्ष्य को हासिल करने के लिए कड़ी मेहनत करता हैं। कुछ कर पाने का जुनून ही इंसान को कामयाबी की और खींचता हैं।

- Advertisement -

varsha dongre Miss India

वैसे तो सफलता के लिए हर व्यक्ति मेहनत करता हैं। लेकिन सफलता उसी के हाथ लगती है जिसमें जुनून के साथ लगन होती हैं। कई बार इंसान सफल होकर भी असफल हो जाता है तो वहीं असफल इंसान सफल बन जाता हैं। आपने कहावत तो सुनी होगी कूड़े के दिन फिर जाते है तो इंसान के क्यों नही। उसी तरह एक गरीब इंसान कब बादशाह बन जाता जिसका कोई अंदाजा ही न लगा सकता हैं। इंसान में अगर कुछ कर पाने की इच्छा हो तो सफलता एक दिन कदम चुम ही लेती हैं।

आपको तो पता ही होगा इंसान-इंसान से भेद कर सकता है लेकिन समय और कामयाबी कभी इंसान से भेद न करती हैं। कहने का मतलब यह है कि जब एक गरीब इंसान जो फुटपाथ पर रहकर अपना जीवन यापन कर रहा हैं तो उसे वहां कोई नहीं पूछता। लोग उसकी सहायता तो करते नही बल्कि उसका मजाक बनाते हैं। लेकिन जब वहीं फुटपाथ पर रहने वाला इंसान एक बड़ा इंसान बन जाता है तब वहीं लोग उसके आगे पीछे घूमते नजर आते हैं। इसी तरह आपको एक मूक बधिर बालिका के बारें में बताते है जो बुरी स्थिति में जीवन व्यतीत कर आज मिस इंडिया बन गई हैं। साथ ही अपने भारत का नाम रोशन कर लोगों के दिलों में अपनी जगह बना ली हैं। कहते हैं समय सबका आता है आज तुम्हारा तो कल हमारा… समय रहते अगर इंसान समय को पहचान लेता तो उसे बाद में पछताना नही पड़ता हैं।

दअरसल इंदौर की रहने वाली मूकबधिर बेटी वर्षा डोंगरे जो गरीब परिवार में पली ओर बड़ी हुई। बचपन में अपने पिता को खोने वाली बच्ची ने मिस इंडिया का खिताब हासिल किया हैं। वर्षा ने आगरा में आयोजित स्टार लाइन मिस इंडिया कॉन्सेप्ट में भाग लिया। जिसमें एक हज़ार में केवल 40 लोगों का चयन हुआ था। जिसमें इंदौर की वर्षा डोंगरे ने प्रथम स्थान प्राप्त कर इंदौर शहर का नाम रोशन किया हैं। बता दें कि एक हज़ार प्रतिभागी में से वर्षा डोंगरे सिर्फ एकमात्र प्रतिभागी थी जो मूकबधिर थी।

वहीं वर्षा डोंगरे के मिस इंडिया बनने के बाद इंदौर के कलेक्टर मनीष सिंह ने उसका स्वागत किया और बधाई देते हुए परिवार की हर संभव मदद का भरोसा दिलाया है। इस समय वर्षा डोंगरे सोशल मीडिया की दुनिया में सुर्खिया बटोर रही है।

- Advertisement -

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

112,451FansLike
1,152FollowersFollow
13FollowersFollow

Latest Articles

error: Content is protected !!