Categories: देश

LAC पर भारत के प्रतिकार में अचंभे में चीन, बेहद गुस्से में हैं शी जिनपिंग!

कहा जा रहा है कि भारतीय सेनाओं के एक्शन से शी जिनपिंग बेहद नाराज हैं. (फाइल फोटो)

भारत लंबे समय से चीन के साथ सीमा विवादों में प्रतिक्रियात्मक रवैया (Reactively) अपनाता रहा है. पहली बार भारत अपने सैनिकों की शहादत के बाद बेहद आक्रामक (Aggressive) मुद्रा में है. इस क्रम में भारत ने चीन द्वारा कब्जाए गए अपने इलाके भी खाली कराए हैं. और इसे लेकर चीनी कम्युनिस्ट पार्टी खुश नहीं है.

हॉन्गकॉन्ग. सीमा विवाद (Border Dispute) को लेकर भारत द्वारा इस बात जिस आक्रामक तरीके (Aggressive Manner) से जवाब दिया जा रहा है उसकी चीन को उम्मीद नहीं थी. अब कहा जा रहा है कि भारतीय सेनाओं (Indian Security Forces) द्वारा 29/30 अगस्त की रात को स्पनगुर झील (Lake Spanguur) के पास के इलाके खाली कराए जाने को लेकर चीनी राष्ट्रपित शी जिनपिंग ने नाराजगी जाहिर की है.

खुश नहीं है कम्युनिस्ट पार्टी
दरअसल भारत लंबे समय से चीन के साथ सीमा विवादों में प्रतिक्रियात्मक रवैया अपनाता रहा है. पहली बार भारत अपने सैनिकों की शहादत के बाद बेहद आक्रामक मुद्रा में है. इस क्रम में भारत ने चीन द्वारा कब्जाए गए अपने इलाके भी खाली कराए हैं. और इसे लेकर चीनी कम्युनिस्ट पार्टी खुश नहीं है.

चीनी सेना में बदलाव कर सकते हैं शीसमाचार एजेसीं एएनआई की रिपोर्ट में बताया गया है कि चीनी नेतृत्व इस बात से खफा है कि क्यों PLA कमांडरों ने विवाद बचाने के लिए सेनाएं पीछे लीं. यह भी कहा जा रहा है कि इससे गुस्साए शी जिनपिंग सेना में बड़े स्तर पर बदलाव कर सकते हैं.

चीनियों को भारतीय सैनिकों ने खदेड़ा
इससे पहले खबर आई थी कि 29-30 अगस्त की रात चीनी सैनिकों ने पेंगोंग झील के इलाके पर घुसपैठ की कोशिश की, लेकिन भारतीय जवानों ने उन्हें खदेड़ दिया. सेना से जुड़े सूत्रों के मुताबिक, भारतीय सेना ने दक्षिण पैंगोंग झील के पास सभी पहाड़ियों को अपने कब्जे में ले लिया है. इनमें ब्लैक टॉप भी शामिल है. चीन की हरकतों के मद्देनजर भारत ने अपनी रणनीति में बदलाव भी किया है. अब भारत कूटनीतिक बातचीत के साथ एलएसी पर चीन के खिलाफ आक्रामक तेवर दिखाए जाएंगे.

आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक, लद्दाख में चीन ने दोनों देशों के बीच बनी सहमति का पालन नहीं किया. चीन बातचीत की आड़ में उन विवादित इलाकों पर कब्जा चाहता है, जहां नोमैंस लैंड बनाने पर सहमति बनी है, लेकिन भारत ने चीन की मंशा को भांपते हुए पहले ही अहम चोटियों पर अपनी स्थिति मजबूत करने की योजना बनाई. भारत के पलटवार से चीन बौखलाया हुआ है. चीन ने भारत को 1962 से भी ज्यादा तबाही की धमकी दी है.


hindi.news18.com

Leave a Comment