छोटे परदे की तुलसी यानी केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी की शिक्षा से जुड़ी जानकारी से आप सभी है अनजान

देश में एक नेता की उसकी एजुकेशन को लेकर हमेशा से ही चर्चा होती आई है। बता दें कि आज के इस दौर में भी देश में बहुत से नेता ऐसे मौजूद है। जो बड़े नेता और मंत्री होने के साथ सत्ता को चला रहे हैं। लेकिन यदि उनकी एजुकेशन की बात की जाए तो कोई 12वीं फेल तो कोई महज 8वीं पास है। जिसके बावजूद भी वे बड़ी कुर्सियों पर बैठकर देश चला रहे हैं। यह हम नहीं कह रहे हैं यह आज तक के रिकॉर्ड बता रहे हैं कि किस तरह से देश में सत्ता चल रही है।

Smriti Irani1

आज हम आपको एक ऐसे ही नेता के बारे में बताने जा रहे हैं जो अपनी एजुकेशन को लेकर हमेशा ही सुर्खियों में रही लेकिन जिसके बावजूद भी गए आज एक बड़ी मंत्री हैं। दरअसल,स्मृति ईरानी की जिन्होंने सास भी कभी बहू थी सीरियल से घर-घर में अपनी पहचान बनाई थी। वहीं उन्होंने अब अपनी अदाकारी छोड़ते हुए पॉलिटिक्स में कदम रख दिए हैं। वहीं उन्होंने बीजेपी का दामन थाम ते हुए आज एक मंत्री की कुर्सी हासिल कर ली है।

चुनाव आते ही चर्चा में होती है इनकी शिक्षा

लेकिन पॉलिटिक्स में कदम रखने के बाद से ही स्मृति ईरानी हमेशा ही चर्चाओं में रही है। कभी वे अपने भाषण को लेकर चर्चाओं में रहती है तो कभी विपक्ष के खिलाफ बेबाकी से लेकिन सबसे ज्यादा उन्हें उनकी एजुकेशन को लेकर लोगों के बीच सुर्खियों में बनाए रखा है। और आज भी जब भी चुनाव सामने आते हैं। स्मृति ईरानी के एजुकेशन को लेकर राजनीति गर्मा जाती है।

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Smriti Irani (@smritiiraniofficial)


खबरों की माने तो स्मृति ईरानी ने जितनी भी बार चुनाव लड़ने के लिए नामांकन दाखिल किया है। उन्होंने हर बार ही अपनी एजुकेशन को लेकर अलग-अलग जानकारी साझा की है। जिसको लेकर ही विपक्ष हर बार उन पर सवालिया निशान खड़ा करता आया है। जिसको लेकर उन्होंने 2019 लोकसभा चुनाव के दौरान ये मान लिया कि वो सिर्फ 12वीं पास हैं।

पत्रकार मधु किश्वर ने ट्वीट कर दावा किया

इतना ही नहीं स्मृति ईरानी को बड़ा झटका तो तब लगा जब पत्रकार मधु किश्वर ने ट्वीट कर यह दावा किया था कि मंत्री स्मृति ईरानी 12वीं कक्षा में दो बार फैल हुईं और तीसरी बार में जब उन्होंने यह परीक्षा उत्तीर्ण की तो उन्हें कुल 47 प्रतिशत अंक मिले। पत्रकार द्वारा कही गई बात ने विपक्ष के दावे को और ज्यादा मजबूत कर दिया। यही कारण है कि अब विपक्ष खुलकर स्मृति ईरानी के एजुकेशन को लेकर हर चुनाव के समय बोलते हैं।

बता दें कि जब 2004 के लोकसभा चुनाव के लिए जब बीजेपी की तरफ से स्मृति ईरानी ने दिल्ली के चांदनी चौक नामांकन दाखिल किया था। उस समय स्मृति ने हलफ़नामे में लिखा था कि उन्होंने 1996 में दिल्ली विश्विद्यालय से पत्राचार माध्यम से बीए किया है। ऐसे ही उन्होंने जब भी चुनाव के लिए नामांकन दाखिल किया तो उन्होंने हर बार एजुकेशन की जानकारियां अलग-अलग दी है।

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Smriti Irani (@smritiiraniofficial)


लेकिन कुछ भी हो आज स्मिता ईरानी जिस तरह छोटे पर्दे पर एक फेमस अदाकारा रही थी उसी तरह वह आज राजनीति में भी एक के बाद एक बड़े पायदान को छू रही हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *