Categories: देश

CAA विरोध की आड़ में हो रही है भयानक तैयारी, केरल में मिले इसके संकेत

केरल भारत का वह राज्य है जहां पर हिंदू समाज के लोग इस्लामिक आतंकवाद और वामपंथी चरमपंथियों के बीच फंसे हुए हैं। केरल के जिस इलाके में पाकिस्तान में बने हुए कारतूस बरामद हुए हैं उसे PFI का गढ़ माना जाता है। PFI के ऊपर इस इलाके में कई हिंदुओं के कत्ल के केस पहले से चल रहे हैं। केरल में पुलिस ने पाकिस्तान से बने हुए कारतूस केरल में भारी संख्या में बरामद किए हैं। पिछले साल पंजाब में भी BSF ने पाकिस्तान द्वारा ड्रोन के जरिए हथियार बेचे जाने का खुलासा किया था। अब केरल में पाकिस्तान में बने हुए कारतूसों को चलाने के लिए हथियार भी भारत में भेजे जा चुके होंगे।

नागरिकता संशोधन कानून को लेकर पूरे देश में फिलीस्तीन मॉडल बनाने की तैयारी की जा रही है। जिसमें दंगा करो और फिर औरतों को आगे कर दो जैसी योजना शामिल है। पूरे देश में चल रहे हिंसक प्रदर्शनों के बाद पुलिस समाज की औरतों का आगे आकर धरना देना इसी बात का संकेत है। उधर, मुस्लिम समाज भी दंगा करने की नई जगह तलाश लेता है। लेकिन पुलिस की माने तो दंगा करने वाले इन दंगाइयों के इरादे पूरे देश को गृह युद्ध में झोंकने के हैं। शायद इसकी तैयारी भी हो चुकी इसके संकेत केरल से मिल रहे हैं।

अगर इस्लामिक दंगाइयों की बात करें तो उन्होंने शाहीन बाग की तरह पूरे देश में अलग-अलग जगह मुस्लिम औरतों को 500- 500 रूपये देकर धरने पर बैठाना शुरु कर दिया है। शायद इसके पीछे वजह यही है कि पुलिस एक बार किसी धरने पर कार्यवाही करें उसके बाद पूरे देश में इस क्रिया को हिंसक प्रतिक्रिया दी जा सकती है। आपको बता दें कि पाकिस्तान में बनी हुई गोलियां कुथालपूंझा में मिलने के बाद NIA की टीम केरल पहुंच चुकी है। NIA पता लगाने की कोशिश कर रही है कि आखिर ये गोलियां केरल में आई कैसे और इस पैकेट के अलावा कितने पैकेट भारत भेजे गए। इस्तेमाल कब होगा और कैसे होगा।

Leave a Comment