Categories: न्यूज़

लंदन में भारतीय मूल के अफसर ने नेतृत्व किया था ऑपरेशन, सिर्फ 5 मिनट में ढेर किया पाक आतंकी

ब्रिटेन में इस आतंकी अटैक में पुलिस ने जिस आतंकी उस्मान खान को मार गिराया वो पाकिस्तानी मूल का ब्रिटिश नागरिक है। इसी के साथ इस हमले का दूसरा पक्ष यह भी है कि ब्रिटिश पुलिस की जिस टीम पर इस आतंकी हमले से निपटने का जिम्मा था उसके चीफ थे भारतीय मूल के जांबाज पुलिस अधिकारी नील बासु।

उस्मान खान पाकिस्तानी मूल का नागरिक है। उसने अपना बचपन पाकिस्तान में बिताया था। जहां वह अपनी मां के साथ रहता था। उस्मान खान आतंकवाद के एक मामले में दोषी ठहराया जा चुका था।इस समय पैरोल पर बाहर था।उस्मान खान जनवरी 2012 में इंग्लैंड के आतंकवाद अधिनियम 2006 के तहत आतंकी गतिविधियों में शामिल होने का दोषी पाया गया था।उस पर लंदन स्टॉक एक्सचेंज को उड़ाने की कोशिश का दोष सिद्ध हुआ था।

28 साल के उस्मान खान ने शुक्रवार को लंदन ब्रिज पर चाकू से कोहराम मचा दिया था। इस शख्स ने लगभग 5 लोगों को चाकू मार दिया। इसमें लगभग 2 लोगों की मौत हो गई जबकि 3 लोग घायल हो गए थे। हालांकि घटना की सूचना मिलते ही पुलिस वहां पहुंच गई और 5 मिनट में उसे ढे़र कर दिया। उस्मान खान लंदन में भी मुंबई जैसा आतंकी हमला करना चाहता था। इसके लिए वह लगातार ट्रेनिंग ले रहा था। यही नहीं उसकी मंशा पाक अधिकृत कश्मीर में आतंकी ट्रेनिंग सेंटर भी स्थापित करने की थी। नील बसु ब्रिटेन में आतंकवादी दस्ते के खिलाफ ऑपरेशन के लिए बनाई गई टीम के चीफ है। नील बासु स्कॉटलैंड यार्ड के काउंटर टेरिज्म पुलिसिंग डिपार्टमेंट के प्रमुख हैं और उन्हें असिस्टेंट कमिश्नर का पद मिला हुआ है। ब्रिटेन की पुलिस को स्कॉटलैंड यार्ड कहा जाता है। ब्रिटेन में 2019 में सबसे प्रभावशाली एशियाई लोगों की सूची में मेट्रोपॉलिटन पुलिस के आतंकवाद निरोधक प्रमुख नील बासु को शामिल किया गया था।

नील बसु ने कहा की पुलिस को लगभग 13.58 मिनट दोपहर में लंदन ब्रिज पर हमले की सूचना मिली। तत्काल वहां कई सुरक्षा एजेंसियां पहुंच गई। इनमें इमरजेंसी सर्विसेज लंदन पुलिस के अधिकारी और मेट्रोपॉलिटन अधिकारी मौजूद थे। स्पेशल ऑपरेशंस के असिस्टेंट कमिश्नर नील बासू ने घटना के बाद कहा, “सिटी आफ लंदन पुलिस के विशेष आर्म्ड ऑफिसर ने एक आतंकी को मार गिराया और मैं इसकी पुष्टि कर सकता हूं कि यह संदिग्ध घटनास्थल पर ही मर गया।”

Leave a Comment