Categories: देश

India-China Rift: राजनाथ सिंह से बात करने होटल तक पहुंच गए थे चीनी रक्षा मंत्री, 80 दिन में 3 बार मांगा समय- रिपोर्ट

चीनी रक्षा मंत्री वेई फेंगही से बातचीत करते हुए रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह

लद्दाख (Ladakh) को लेकर दोनों देशों के बीच बढ़े तनाव के दौरान भारत (India) के रुख को देखते हुए चीन (China) के रक्षा मंत्री वेई फेंघे (Wei Fenghe) किसी भी हालत में भारत के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) से बात करना चाहते थे.

नई दिल्ली. रूस की राजधानी मास्को (Moscow) में शंघाई सहयोग संगठन (SCO) बैठक में हिस्सा लेने गए रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) से चीनी रक्षा मंत्री वेई फेंघे (General Wei Fenghe) ने कई बार मिलने का अनुरोध किया था. दोनों देशों के बीच बातचीत हो सके इसके लिए चीनी रक्षा मंत्री वेई फेंघे उस होटल तक पहुंच गए, जहां पर राजनाथ सिंह ठहरे थे. दोनों रक्षा मंत्रियों के बीच दो घंटे तक चली इस बैठक में भारत ने जहां चीन को सभी मुद्दों पर दो टूक जवाब दिया, वहीं उनके झूठे दावों की भी पोल खोल दी.

पूर्वी लद्दाख को लेकर दोनों देशों के बीच बढ़े तनाव के दौरान भारत के रुख को देखते हुए चीन के रक्षा मंत्री वेई फेंघे किसी भी हालत में भारत के रक्षा मंत्री से बात करना चाहते थे. चीनी रक्षा मंत्री की बातचीत की जरूरत का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि दोनों नेता जब टेबल पर बैठे तो फेंघे ने कहा कि वे पिछले 80 दिनों में 3 बार बातचीत का अनुरोध कर चुके हैं. बता दें कि पिछले सप्ताह जिस तरह से भारतीय सेना ने पेंगोंग झील के दक्षिण में कई अहम मोर्चे पर कब्ज़ा किया है उसके बाद चीन के सामने बातचीत के अलावा कोई रास्ता नहीं दिखता है.

दोनों देशों के बीच चल रहे तनाव के बीच हुई इस बैठक में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कड़े शब्दों में कहा कि पूर्वी लद्दाख में तनाव का एकमात्र कारण चीनी सैनिकों का आक्रामक रवैया है. राजनाथ सिंह ने चीन को चेतावनी देते हुए कहा कि अगर ऐसे ही चलता रहा तो भारत अपनी संप्रभुता की रक्षा करने के लिए किसी भी हद तक जाने को तैयार है. उन्होंने कहा​ कि चीन के सैनिकों ने सीमा पर बनी यथास्थिति को बदलने की कोशिश की. राजनाथ​ सिंह ने सीमा पर चीन की तरफ से बड़ी संख्या में फौजियों को भेजने का मुद्दा भी उठाया.

इसे भी पढ़ें :- India-China Tension: राजनाथ सिंह की चीन को चेतावनी, कहा- हमारे इरादों को लेकर भ्रम न पालेंशांति और स्थिरता ये ही तनाव हो सकता है कम
रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने चीन को सलाह देते हुए कहा कि अगर उसे भारत के साथ अच्छे संबंध रखने हैं तो सीमा पर शांति और स्थिरता लानी होगी. चीन को ऐसा व्यवहार करना होगा, जिससे आपसी मतभेद कभी विवाद का रूप न ले सकें. रक्षा मंत्री ने कहा कि दोनों देशों की सेनाओं को उनके नेताओं के बीच बनी सहमतियों के अनुसार कदम उठाना चाहिए. द्विपक्षीय रिश्तों में आगे बढ़ने के लिए भारत-चीन सीमा पर शांति और स्थिरता जरूरी है. इसलिए दोनों पक्षों को अपने मतभेदों को विवाद का रूप नहीं देना चाहिए.


hindi.news18.com

Leave a Comment