Illegal Construction : घर बनवाने जा रहे है तो पहले कर ले यह काम, वरना चल जाएगा बुलडोजर बंद होगी मुलभुत सुविधाएँ

Photo of author

By Viralsandesh News Desk

Illegal Construction

Illegal Construction : इन दिनों प्रदेश में अवैध तरीके से घर बनाने का काम जोरों शोरों पर है। इसी के मद्देनजर राज्य की सरकार इनके खिलाफ आक्रामक रवैया अपना रही है। प्रदेश में अब कोई अवैध भवन का निर्माण कराते हुए पकड़ा गया या जिसकी कंप्लेन मिली। उसकी पानी और बिजली सहित सभी बुनियादी सुविधाएं बंद की जाएंगी। बताते चलें कि हिमाचल प्रदेश में रिकार्ड तोड़ बारिश और बाढ़ के प्रभाव से कई लोगों के घर ढह गए है। इसके बाद हिमाचल सरकार ने सख्त रवैया अपनाया है।

New WAP

सरकार ने कहा है कि नक्शा को पास करवाकर घर का निर्माण करना होगा। लिहाजा घर निर्माण संबंधित इंजीनियर की रिपोर्ट जरूर होगी। बता दें कि हिमाचल प्रदेश में आई प्राकृतिक आपदा में कई घर गिर गए हैं। मूसलाधार वर्षा के वजह से पूरे राज्य में 500 से अधिक घर ढह गए हैं। अधिकतर घर मंडी, शिमला, कुल्लू बिलासपुर और मनाली में ढहे हैं। इस बीच कई घरों में दरारें आई हैं, जिनके ढहने की संभावना जताई जा रही है।

यह भी पढ़ें : मोदी सरकार की मुफ्त स्मार्टफोन योजना, राशन कार्ड पर दो स्मार्टफोन और नगदी 10200 रुपए, ये है सच्चाई

Illegal Construction पर सिविल इंजीनियर देगा रिपोर्ट

हिमाचल प्रदेश में भवन निर्माण से पूर्व नक्शा को पास कराना जरूरी है। यदि आपको सिविल इंजीनियर के ओर से रिपोर्ट मिलती है तो याद उस डिजाइन के मुताबिक घर का निर्माण कर सकते हैं। इसकी निगरानी नगर नियोजन और शहरी निकाय करेगा। यदि कोई ठेकेदार बगैर लाइसेंस और नक्शा को पास कराए बगैर घर का निर्माण करते हुए पकड़ा जाता है तो उसके विरुद्ध सख्त कार्रवाई होगी। प्रधान सचिव देवेश कुमार ने कहा है कि अभियंता से नक्शा पास कराकर भवन निर्माण का काम शुरू करना चाहिए। यदि नक्शा पास नहीं कराया गया है तो विकास प्राधिकरण किसी भी समय घर ढहा सकता है।

New WAP

हाईवे से दूर बनेगा घर

हाईवे के बीच से दोनों तरफ 75-75 मीटर रेंज में कोई भी निर्माण नहीं हो सकता है। यदि निर्माण काफी जरूरी है तो राजमार्ग मंत्रालय और NHAI से परमिशन लेना जरूरी है। राष्ट्रीय राजमार्ग नियंत्रण कानून की धारा 42 के अन्तर्गत नई व्यवस्था है कि राष्ट्रीय राजमार्ग के बीच से 40 मीटर तक निर्माण की Get App परमिशन नहीं दी जा सकती है। एनएचएआई के कहने पर राजमार्ग मंत्रालय नो ऑब्जेक्शन सर्टिफिकेट जारी करेगा। राजमार्ग मंत्रालय की हरी झंडी के बाद जिला पंचायत या संबंधित विकास प्राधिकरण नक्शा को पास करेंगे।

google news follow button