Categories: देश

FCI के 1 लाख से ज्यादा मजदूर और कर्मचारियों को मार्च 2021 तक मिलेगा 35 लाख का कोरोना इंश्योरेंस

केन्द्रीय उपभोक्ता मामले खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्री रामविलास पासवान

केन्द्रीय उपभोक्ता मामले खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्री रामविलास पासवान (Ramvilas Paswan) ने कहा है कि सरकार इस संकटकाल में अपनी जान जोखिम में डालकर लोगों को सेवा मुहैय्या करा रहे हमारे कोरोना वॉरियर्स को हर सुरक्षा मुहैय्या कराने के प्रति संकल्पित है.

नई दिल्ली. केन्द्रीय उपभोक्ता मामले खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्री रामविलास पासवान (Ram Vilas Paswan-Minister of Consumer Affairs, Food and Public Distribution) ने बड़ा ऐलान करते हुए एफसीआई (FCI-Food Corporation of India)  के 80 हजार मजदूर सहित कुल 1,08714 कर्मचारियों को 35 लाख रुपये तक का इंश्योरेंस देने की समय सीमा को आगे बढ़ा दिया है. रामविलास पासवान ने ट्विट करके बताया कि एफसीआई  के  कुल 1,08714 कर्मचारियों और अधिकारियों में किसी की कोरोना से मौत होने पर परिवार को मुआवजा देने के फैसले को FCI ने 24 सितंबर 2020 से 6 महीने के लिए बढ़ा दिया है.

केन्द्रीय उपभोक्ता मामले खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्री रामविलास पासवान ने कहा है कि सरकार इस संकटकाल में अपनी जान जोखिम में डालकर लोगों को सेवा मुहैय्या करा रहे हमारे कोरोना वॉरियर्स को हर सुरक्षा मुहैय्या कराने के प्रति संकल्पित है. इसी के तहत यह फैसला किया गया है.

सभी को मिलेगा इंश्योरेंस-मंत्रालय की ओर से एक बयान में कहा गया कि फिलहाल एफसीआई के कर्मचारियों को आतंकवादी हमले, बम ब्लास्ट, भीड़ के हमले या अन्य प्राकृतिक आपदा में मौत होने पर उनके परिजनों को मुआवजे दिया जाता था. लेकिन इसमें एफसीआई के नियमित और अनुबंधित मजदूर शामिल नहीं रहे हैं. सरकार ने कोरोना वायरस यानी कोविड-19 के संक्रमण के खतरे के बीच काम कर रहे सभी कर्मियों और मजदूरों को जीवन बीमा सुरक्षा मुहैया कराने का फैसला किया है.

24 मार्च 2021 तक एफसीआई इंडिया में ड्यूटी निभाते हुए COVID19 संक्रमण से मौत होने पर FCI के नियमित मजदूर के लिए-15 लाख, अनुबंधित मजदूर के लिए 10 लाख, कैटेगरी 1 के अधिकारी के लिए 35 लाख, कैटेगरी 2 के अधिकारी के लिए 30 लाख और कैटेगरी 3 व 4 के कर्मचारियों के परिजनों को 25-25 लाख मुआवजे की व्यवस्था की गई है.


hindi.news18.com

Leave a Comment