ख़ूबसूरत ख़बर! जिस मंडप में बेटी ने लिए सात फेरे वहीं विधवा मां ने भी लिए सात फेरे

उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ के संसदीय क्षेत्र गोरखपुर से एक खूबसूरत खबर सामने आई है। गोरखपुर में मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना का आयोजन हुआ जिसमें एक ही मंडप में पहले बेटी की शादी हुई फिर बेटी की मां ने फेरे लिए। यह दोनों विवाह इसलिए महत्वपूर्ण है क्योंकि आज समाज में एक विधवा दूसरी शादी नहीं कर सकतीऔर तब तो बिल्कुल भी नहीं कर सकती जब आपके बच्चे बड़े हो गए हो।

सामूहिक विवाह में संपन्न हुई शादी जिसमें इंदु का विवाह उसके ही उम्र के युवक राहुल से हुआ जबकि इंदु की माता बेला देवी जिनकी उम्र 53 वर्ष है का विवाह 55 वर्षीय उनके ही देवर जगदीश जो कि अविवाहित है से हुआ। पिपरौली ब्लॉक गोरखपुर मैं संपन्न हुआ मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह कार्यक्रम जिसमें की 63 जोड़ें वैवाहिक बंधन में बंदे। 63 जोड़ों में से एक जोड़ा मुस्लिम समुदाय का भी है। 63 जोड़ों में से सबसे ज्यादा चर्चा हिंदू की मां बेला और उनके देवर जगदीश के विवाह की रही। पिपरौली ब्लाक के एक छोटे से गांव पुर मॉल के रहने वाले जगदीश उम्र 55 वर्ष अपने सभी भाइयों में सबसे छोटे हैं। कुर मॉल गांव में उनका खेती-बाड़ी का छोटा सा काम है।

जगदीश और बेला ने लिया निर्णय

जगदीश अब तक अविवाहित है उनका पहले किसी से विवाह नहीं हुआ। जगदीश के बड़े भाई जिनका नाम हरिहर था उनका 25 साल पहले स्वर्गवास हो गया था। भाई हरिहर की दो बेटे और तीन पुत्रियां है, जिन का भरण पोषण भाभी बेला देवी ने किया है। भाभी बेला देवी ने तीनों पुत्रियों को अच्छे से पढ़ाया लिखाया व संस्कार दिए हैं। भाई हरिहर के दो बेटों और दो बेटियों की शादी पहले हो चुकी है इंदु इन सब में सबसे छोटी है।

इंदु जो की तीसरी और सबसे छोटी बेटी है उसका विवाह मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह कार्यक्रम के अंतर्गत अतरौली ब्लाक में होना तय हुआ। जब परिवार को मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के बारे में पता चला तो बेटी इंदु के साथ ही उन्होंने अपनी शादी का भी निर्णय लिया। जगदीश और बेला ने निश्चित किया कि बेटी के साथ इसी मंडप में वह दोनों भी सात फेरे लेकर एक दूसरे को अपना बचे हुए जीवन का साथी बनाएंगे।

निर्णय लेने के पहले जगदीश और बेला ने बच्चों और गांव के सभी बड़े बुजुर्गों से सलाह मशवरा किया और जब सभी लोगों की सहमति हुई तो दोनों विवाह बंधन में बंधे। जगदीश और बेला की इस अद्भुत निर्णय और अनोखी शादी के लिए बीडीओ डॉक्टर सी एस कुशवाहा सत्यपाल सिंह बृजेश यादव रमेश द्विवेदी सुनील पांडे रतन सिंह के साथ कई अधिकारी उपस्थित रहे। मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह कार्यक्रम में दे पार गांव के सतपाल की बेटीसारी शुभकामनाएं और आशीर्वाद दिया।

Leave a Comment