वायरल खबर: बारात लेकर गली-गली घुमा दूल्हा, लेकिन न मिली दुल्हन ओर न ही मिला घर

कोरोना के कारण कई महीनों तक लॉक डाउन रहा जिसके कारण कई वैवाहिक प्रसंग अधूरे रहे। अनलॉक होने के बाद शादियों का सीजन शुरू हुआ कई लोगों ने लंबित पड़े शादियों के मामले आनन-फानन में पूरे किए। कई तरह के अजीबोगरीब हालात भी देखने को मिले। ऐसा ही एक अजीब मामला यूपी के आजमगढ़ क्षेत्र से आया जहां दूल्हे को अपनी दुल्हन नहीं मिल पाई।

दरअसल हुआ यह कि आजमगढ़ के युवक की शादी 10 दिसंबर को मऊ जिले की एक युवती के साथ निश्चित हुई। 10 दिसंबर को युवक दूल्हा बन बारात लेकर मऊ पहुंचा तो वहां न ही दुल्हन मिली ना उसका परिवार। पूरी रात दुल्हन की तलाश में दूल्हा मऊ के गलियों में घूमता रहा। अंततः मजबूरी में दूल्हे को खाली हाथ बरात लेकर घर लौटना पढ़ा।

दुल्हन के ना मिलने से दूल्हा और उसका परिवार तिलमिला गया और उनका सारा गुस्सा उस महिला पर निकल गया जिसने यह संबंध निश्चित करवाया था। इतना ही नहीं दूल्हे के परिवार ने उक्त महिला को पकड़ा और बंधक बना लिया। महिला के बंधक बना लिए जाने से महिला के परिवार और दूल्हे के परिवार में जबरदस्त घमा-सान हुआ और कोतवाली पुलिस स्टेशन में पूरी रात हं-गामा चलता रहा। उक्त घटना पर महिला ने सफाई देते हुए कहा की दूल्हे के परिवार की तरह लड़की वालों ने मुझे भी बेवकूफ बनाया है मुझे इस समय की कोई जानकारी नहीं थी।

थानेदार की सलाह से सुलझा मामला

दूल्हे के परिवार और महिला के बीच पूरी रात घमा-सान चलता रहा। दूल्हे के परिवार ने महिला के ऊपर गंभीर आरोप लगाए जिसे देखते हुए सीनियर सब इंस्पेक्टर शमशेर यादव ने दोनों पक्षों को आपस में सुलह कर मामले को खत्म कर लेने के लिए कहा। आखिरकार आरोप-प्रत्यारोप के बाद दोनों पक्षों के बीच मामला सुलझ गया और लड़के के परिवार वालों ने महिला के खिलाफ कोई लिखित शिकायत दर्ज नहीं कराई।

लड़के का परिवार छतवारा स्थित महिला के संपर्क में आया और महिला ने लड़के की शादी एक अच्छे परिवार में कराने की बात कही। उक्त महिला मऊ की रहने वाली युवती का रिश्ता लेकर लड़के के परिवार के पास आयी। दोनों परिवार शादी के लिए रजामंद हुए, लेकिन लड़के वालों से बस एक गलती हो गयी उन्होंने लड़की का मऊ जाकर घर-परिवार नहीं देखा। दोनों परिवार की सहमति होने के बाद शादी की तारीख निश्चित हुई और युवक पक्ष के परिवार ने युवती पक्ष के परिवार को शादी के विभिन्न खर्चों के लिए ₹20000 नगद दिए।

Leave a Comment