Categories: न्यूज़

अमेरिका के खिलाफ इमरान का बड़ा बयान

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से मुलाकात के बाद कोई भी सहयोग प्राप्त ना होने के कारण बौखला गए हैं। सोमवार को दिए अपने बयानों से अमेरिका और पाक के रिश्तो में और भी कड़वाहट आ सकती है।

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान इसी बौखलाहट में सोमवार को एक बड़ा बयान दे गए उन्होंने कहा कि 9/11 हमले के बाद पाकिस्तान सरकार ने अमेरिका का साथ दिया, वह हमारी सरकार की सबसे बड़ी भूल थी। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने पूर्व राष्ट्रपति जनरल परवेज मुशर्रफ को भी आड़े हाथों लिया।

इमरान खान का कहना था की जनरल परवेज मुशर्रफ को यह पता होना चाहिए था की उनकी सरकार अमेरिका से किए गए वादे पूरे करने में सक्षम है या नहीं। अगर पाकिस्तानी सरकार अमेरिका से किए गए वादे पूरे करने में असमर्थ है, तो जनरल परवेज मुशर्रफ को इस तरह का कोई भी वादा अमेरिका से नहीं करना चाहिए था।

इमरान ने अमेरिका को जिम्मेदार ठहराया,

पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा कि, अमेरिका द्वारा की गई आतंकवाद के खिलाफ कार्रवाई में 70000 से भी ज्यादा पाकिस्तानी मारे जा चुके हैं। इतने ज्यादा लोगों के मारे जाने के बाद भी अमेरिका कोई विशेष सफलता अफगानिस्तान में प्राप्त नहीं कर पाया है। इसी हार से बौखला कर अमेरिका पाकिस्तान को इसके लिए जिम्मेदार ठहराना चाहता है। 1980 के समय में अमेरिका द्वारा निवेदन करने पर सोवियत संघ से लड़ाई करने के लिए पाकिस्तान के कई समूहों को प्रशिक्षित किया गया था और इस लड़ाई के पश्चात जब अमेरिका ने अफगानिस्तान पर चढ़ाई की तो अमेरिका ने इन्हीं समूहों को आतंकवादी घोषित कर दिया।

इमरान खान अफगानिस्तान में शांति के लिए ट्रम से बात करेंगे,

पाक प्रधानमंत्री इमरान का ऐसा मानना है कि अफगानिस्तान में किसी भी तरह की जमीनी लड़ाई से किसी भी तरह का समाधान निकाला जाना मुश्किल है। उनका कहना है कि अफगानिस्तान के समाधान के लिए वह अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से एक बार फिर निवेदन करेंगे। पाक प्रधानमंत्री इमरान का ऐसा मानना है, कि बीते कई सालों में अगर आप सफल नहीं हो पाए हैं तो आने वाले कई और सालों तक आपके सफल होने की संभावनाएं बहुत कम है।

इमरान ने माना कि पाकिस्तानी अर्थव्यवस्था बहुत बुरे हालात में,

इमरान ने कहा कि हमारी सरकार बनने के पश्चात हमें जो अर्थव्यवस्था मिली है वह पाकिस्तान के इतिहास की सबसे बुरी अर्थव्यवस्था है। इसको दुरुस्त करने के लिए हमें कई ओर वर्षों तक संघर्ष करना होगा। उन्होंने कहा कि हमें अभी तक इस अर्थव्यवस्था को ठीक करने के लिए कई संघर्षों का सामना करना पड़ा है। इसी संघर्ष के समय में पड़ोसी देश चीन ने हमारा बहुत साथ दिया है, और इसी मदद के लिए आग प्रधानमंत्री इमरान ने चीन सरकार का धन्यवाद भी दिया है

Leave a Comment