गुस्से में तमतमाई ममता बनर्जी, कहा मेरा बस चलता तो डेंगू के मच्छर से विपक्ष को कटवाती

गौरतलब है कि डेंगू को लेकर विधानसभा में संसदीय मामलों के मंत्री पार्थ चटर्जी ने बहस का प्रस्ताव पेश किया था। जिस पर विपक्षी दलों के विधायकों ने हंगामा शुरू कर दिया था। उनका कहना था कि राज्य सरकार की उदासीनता की वजह से डेंगू का प्रकोप बढ़ रहा है। इस पर स्वास्थ्य मंत्री चंद्रिमा भट्टाचार्य और फिर मुख्यमंत्री ने अपना पक्ष रखा। बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने विपक्ष पर डेंगू को लेकर राजनीति करने का आरोप लगाते हुए निशाना साधा। मंगलवार को विधानसभा में डेंगू पर बहस के दौरान उन्होंने कहा, “विपक्ष ऐसे बर्ताव कर रहा है, जैसे डेंगू फैलाने वाले मच्छरों के लार्वा को हम आमद कर रहे हैं। अगर हम सच में ऐसे मच्छरों को आमद कर पाते तो, उन्हें विपक्ष को काटने की कहते ताकि सरकार पर बेबुनियाद आरोप लगाने से पहले वे इससे होने वाली पीड़ा को समझ पाते।”

पूर्ववर्ती वाममोर्चा सरकार पर निशाना साधते हुए कहा, “34 साल सत्ता में रहने के बावजूद वे लोग राज्य का इतिहास-भूगोल नहीं जानते। जब भी डेंगू पर बहस की बात हुई तो वाममोर्चा और कांग्रेस के नेता सदन से वाकआउट कर देते हैं।” मुख्यमंत्री ने कहा, “राज्य सरकार के प्रयास के कारण ही बीते साल के मुकाबले इस साल डेंगू से मरने वालों की संख्या कम हुई। अब तक राज्य में डेंगू से 27 लोगों की मौत हुई जबकि पीड़ितों की संख्या 44,852 है। ममता ने कहा यह समय राजनीति का नहीं है, बल्कि जनता को जागरूक करने का है।

हमें यह समझना चाहिए कि सरकार सकारात्मक कदम उठा रही है। बंगाल, देश मे बीमारी का मुफ्त में इलाज करने वाला राज्य है। इस दौरान उन्होंने कहा कि कुछ कारपोरेट कंपनियों व निजी नर्सिंग होम डेंगू को लेकर लोगों में अफवाह फैला रहे हैं। 6 दिसंबर को बंगाल मेंअशांति बर्दाश्त नहीं – मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने पुलिस अधिकारियों को दो टूक कहा है कि 6 दिसंबर को विवादित ढांचा गिराए जाने की बरसी पर अशांति बर्दाश्त नहीं की जाएगी। सोमवार देर शाम सचिवालय भवन में IPS अधिकारियों संघ बंद कमरे में हुई बैठक के दौरान उन्होंने चेतावनी दी।

Leave a Comment