Categories: राजनीति

विवादित बयानों से बदनाम अधीर रंजन चौधरी का वित्त मंत्री पर जुबानी हमला, बताया "निर्बला" सीतारमण

अभी नई लोकसभा को मात्र 6 महीने ही हुए हैं। लेकिन सदन में कांग्रेस के संसदीय दल के नेता अधीर रंजन चौधरी अपने विवादित बयानों के लिए खासे बदनाम हो चुके हैं। प्रधानमंत्री मोदी और गृहमंत्री अमित शाह को “घुसपैठिया” बताने वाले अपने विवादित बयान के एक दिन बाद भी उन्होंने एक और विवादित बयान देते हुए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण पर पर्सनल हमला किया। कारपोरेट टैक्स पर चर्चा के दौरान टैक्स कटौती की बात करते हुए उन्होंने वित्त मंत्री निर्मला सीतारमणको “निर्बला” बता दिया।

अधीर रंजन चौधरी से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह को घुसपैठिया कहने पर भाजपा ने सोमवार को लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी से बयान वापस लेने और बिना शर्त माफी मांगने की मांग की। शून्यकाल के दौरान संसदीय कार्य मंत्री प्रहलाद जोशी ने कहा कि कांग्रेस के नेता रंजन चौधरी ने प्रधानमंत्री मोदी जी और अमित शाह को “घुसपैठिया” कहा। मोदी जी केवल देश के ही नेता नहीं है बल्कि देश के प्रधानमंत्री भी हैं। उन्होंने कहा कि चौधरी स्वयं पश्चिमी बंगाल से आते हैं जहां से हमारी सरकार घुसपैठियों को बाहर करने का काम करती रही है। उन्होंने कहा नरेंद्र मोदी विश्व प्रसिद्ध नेता है और उनके मार्गदर्शन में जम्मू कश्मीर के विशेष दर्जे से संबंधित अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधानों को हटाने का काम किया था। उन्होंने कहा कि अधीर रंजन को माफी मांगना चाहिए।

प्रहलाद जोशी ने कहा “देश की जनता ने नरेंद्र मोदी को अभूतपूर्व जनादेश दिया है। लेकिन कांग्रेस पार्टी चुनाव में हार को स्वीकार करने को तैयार नहीं है। कांग्रेस को जनादेश का आभास नहीं हो रहा है। संसदीय कार्य मंत्री ने कहा कि कांग्रेस पार्टी के नेता ही घुसपैठिए हैं। माना जा रहा है कि उन्होंने यह बात परोक्ष रूप से काग्रेस अध्यक्ष के संदर्भ में कही।” कारपोरेट टैक्स पर चर्चा के दौरान टैक्स कटौती की बात करते हुए उन्होंने वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण को “निर्बला” बता दिया।लोकसभा के कांग्रेस दल के नेता ने कारपोरेट टैक्स में हुई कटौती के नुकसान गिनाते हुए उन्होंने यह कहा कि “हम आप का सम्मान करते हैं, लेकिन कभी-कभी आपको निर्मला सीतारमण कहने की बजाय “निर्बला” सीतारमण कहने का मन करता है। क्योंकि आप मंत्री पद पर तो है लेकिन आपके मन में जो है, वह आप कह भी नहीं पाती हैं।”

Leave a Comment