Categories: देश

सुशांत केस: संदीप सिंह ने तोड़ी चुप्पी, इंस्टा पोस्ट से हर आरोप का दिया जवाब

मुंबई. सुशांत सिंह राजपूत केस (Sushant Singh Rajput Case) को ढाई माह से अधिक का समय हो चुका है. इस केस में सुशांत की गर्लफ्रेंड रिया चक्रवर्ती (Rhea Chakraborty) को मुख्य आरोपी बनाया गया है. मीडिया की खबरों में इस केस में सुशांत के दोस्त संदीप सिंह (Sandip Ssingh) के बारे कई तरह की खबरें छपी थीं. संदीप, सुशांत की मौत के बाद उनके घर, पोस्टमार्टम और अंतिम संस्कार सभी में मौजूद रहे. सुशांत के निधन के बाद सोशल मीडिया पर संदीप सिंह ने कई पोस्ट किए, जिससे सुशांत और उनकी मित्रता का पता चलता है.

दूसरी तरफ मीडिया में यह सवाल उठा क‍ि संदीप, सुशांत के घरवालों से कभी मिले नहीं तो फिर इतनी सहानुभूति क्यों दिखा रहे हैं, या वे कुछ छिपाने की कोश‍िश कर रहे हैं. मीडिया में अपने खिलाफ छप रही खबरों पर पहली बार संदीप सिंह ने सोशल मीडिया के माध्यम से अपना पक्ष रखा है. उन्होंने इंस्टाग्राम पर एंबुलेंस ड्राइवर से और सुशांत की बहन मीतू सिंह से किए गए व्हाट्सएप चैट के स्क्रीनशॉट भी शेयर किए हैं.

पहले इंस्टाग्राम पोस्ट में संदीप ने लिखा है- ‘क्षमा करें भाई, मेरी चुप्पी ने मेरी 20 साल से बनाई इमेज और परिवार को टुकड़ों में बांट दिया है. मुझे नहीं पता था कि आज के समय में दोस्ती के लिए प्रमाण पत्र की आवश्यकता होती है. आज मैं अपनी व्यक्तिगत चैट को सार्वजनिक कर रहा हूं, क्योंकि यह अंतिम उपाय है जो हमारे रिश्ते को साबित करता है.’

संदीप सिंह से मीडिया में यह सवाल पूछा गया कि आप पिछले एक साल से सुशांत के संपर्क में नहीं थे लेकिन अचानक आप सुशांत की मौत के दिन सक्रिय कैसे हो गए? इस संदीप ने कहा कि, मैं बिहारी फैमिली से हूं, अगर हम अनजान व्यक्ति की अर्थी भी देखते हैं तो हम उन्हें भी कंधा देते हैं, ये तो मेरा दोस्त था. सुशांत से मेरी दोस्ती साल 2011 से है.दूसरे पोस्ट संदीप ने लिखा है- ’14 जून को जब मैंने तुम्हारे बारे में सुना, मैं अपने आप को रोक नहीं पाया और तुम्हारे घर की ओर दौड़ पड़ा. वहां मीतू दीदी के अलावा किसी को न देखकर शॉक्ड हो गया. मैं आज भी सोच रहा हूं कि वहां उस समय तुम्हारी बहन के साथ कठिन वक्त में खड़ा रहकर मैंने गलती की या मुझे तुम्हारे दोस्तों के आने का वेट करना चाहिए था.’

संदीप ने आगे कहा कि, सुशांत छिछोरे और ड्राइव बनाने में बिजी था. मैं पीएम नरेंद्र मोदी फिल्म बनाने में बिजी था. मैं वहां गया क्योंकि मैं भीड़ का हिस्सा बनने गया था. मुझे लगा था कि कई लोग जो उनके दोस्त होने का दावा करते हैं, वे सब होंगे लेकिन जब मैं वहां पहुंचा तो वहां कोई नहीं था, वहां सिर्फ मीतू दीदी की फैमिली थी. मित्र होने के नाते मैं वहां सक्रिय था, मुझे नहीं पता था कि ऐसे समय में रिहर्सल करके खास अंदाज में अपनी बॉडी लैंग्वेज दिखानी होती है. मैं एक मित्र की तरह वहां पहुंचा था.इस मामले में तीसरे पोस्ट में संदीप सिंह ने लिखा- ‘लोग कह रहे हैं कि तुम्हारा पर‍िवार मुझे नहीं जानता था. हां ये सच है. मैं कभी तुम्हारे पर‍िवार से नहीं मिला. लेक‍िन शहर में शोक मनाती एक अकेली बहन को उसके भाई के अंतिम संस्कार में मदद करना क्या मेरी गलती थी? एंबुलेंस ड्राइवर के बयान के बाद भी उसके साथ हुई मेरी बातचीत पर उठ रहे सवालों को खत्म करने के लिए मैं बस इतना कहना चाहूंगा.’

इस मामले में लगाए गए आरोपों पर संदीप ने चौथे इंस्टाग्राम पोस्ट में लिखा है कि, ‘बस मुझ पर लगाए गए मॉरिशस की अटकलों वाली कहानी को खत्म करना चाहता हूं जो कि ईर्ष्यावश मेरी इमेज को खराब करने के लिए गढ़ी गई है. मॉरिशस पुलिस की ओर से जारी किया गया लेटर शेयर कर रहा हूं. वहां पर मेरे खिलाफ ऐसा कोई केस कभी फाइल ही नहीं हुआ है.’

यह एम्बुलेंस वाले का कर्तव्य था कि वह फोन करके अपने पैसे मांगे. अस्पताल से किसी ने मेरा नंबर उसे दिया होगा तो ड्राइवर ने मुझे फोन करके अपना पैसा मांगा. यह स्पष्ट था कि ऐसे समय मैंने सुशांत की बहन की स्थिति पर विचार करके उन्हें इसके बारे में कुछ नहीं बताया. मैंने दीपक साहू को अपना नंबर दिया, जिन्होंने अपना बिल 14 को नहीं बल्कि 15 या 16 जून को क्लियर किया. वह अपने पैसों के लिए कॉल कर रहा था. हमने कुछ दिनों बाद नकद में उसके पैसों का भुगतान कर दिया.

संदीप ने अपनी चैट के स्क्रीनशॉट्स भी इंस्टाग्राम पर शेयर कर दिए हैं. संदीप ने सुशांत के साथ अपनी बातचीत के जो स्क्रीनशॉट्स शेयर किए हैं वे नवंबर 2016 और जून 2018 के हैं. इनमें से 9 नवंबर 2016 की चैट में सुशांत ने संदीप से कहा कि ‘मेरे पास ऐसे दोस्त नहीं हैं जो होने चाहिए, लेकिन ऐसा भी नहीं है कि मेरे पास सिर्फ शेट्टी है. तुम्हारा भी हमेशा स्वागत है भाई.’


hindi.news18.com

Leave a Comment