Categories: देश

बड़ी खबर! सरकार अब IRCTC में बेचेगी अपनी 15 से 20 फीसदी हिस्सेदारी

केंद्र सरकार ने भारतीय रेलवे की सहयोगी कंपनी आईआरसीटीसी में अपनी हिस्‍सेदारी बेचने के लिए बोलियां मंगाई हैं.

निवेश और सार्वजनिक संपत्ति प्रबंधन विभाग (DIPAM) के मुताबिक, केंद्र सरकार भारतीय रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉरपोरेशन (IRCTC) में अपनी हिस्‍सेदारी बेच रही है. इस समय कॉरपोरेशन में केंद्र सरकार (Central Government) की 87.40 फीसदी हिस्‍सेदारी है.

नई दिल्ली. केंद्र सरकार भारतीय रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉरपोरेशन (IRCTC) में अपनी 15 से 20 फीसदी हिस्सेदारी बेचने जा रही है. ये हिस्‍सेदारी ऑफर फॉर सेल (OFS) के जरिये बेची जाएगी. इसके लिए विनिवेश विभाग ने मर्चेंट बैंकर्स (Merchant Bankers) की नियुक्ति के लिए बोलियां मंगाई है. इस समय IRCTC में सरकार की 87.40 फीसदी हिस्सेदारी है. बता दें कि ये रेलवे (Indian Railways) की सब्सिडियरी कंपनी है. इसके जरिये यात्री घर बैठे ट्रेन टिकट बुक करते हैं. इसके अलावा IRCTC प्राइवेट ट्रेन भी चलाती है. बताया जा रहा है कि सरकार इस लेनदेन को कम से कम किस्तों में पूरा करना चाहती है.

डीआईपीएएम ने दिया 20 फीसदी तक हिस्‍सेदारी बेचने का संकेत
निवेश और सार्वजनिक संपत्ति प्रबंधन विभाग (DIPAM) ने अगस्‍त 2020 में आईआरसीटीसी में बिक्री प्रबंधन के लिए 10 सितंबर तक मर्चेंट बैंकर्स से बोलियां मंगाई थीं. हालांकि, रिक्वेस्ट फॉर प्रपोजल (RFP) में हिस्सेदारी के प्रतिशत की जानकारी नहीं दी है. इसके बाद 4 सितंबर को संभावित बोलीदाताओं के साथ प्री-बिड बैठक हुई थी. डीर्आपीएएम ने अब अपनी वेबसाइट पर संभावित बोलीदाताओं की ओर से आए सवालों पर प्रतिक्रिया दी है. इसमें डीआईपीएएम ने 15 से 20 फीसदी हिस्‍सेदारी की बिक्री का संकेत दिया है. साथ ही कहा गया है कि सही जानकारी चुने जाने वाले मर्चेंट बैंकर्स के साथ शेयर की जाएगी.

ये भी पढ़ें- ‘संकट में भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था! GDP में हो सकती है 14.8 फीसदी की बड़ी गिरावट’प्रमोटर्स अपना हिस्‍सा घटाने के लिए करते हैं OFS का इस्‍तेमाल

आईआरसीटीसी में हिस्‍सेदारी ऑफर फॉर सेल के जरिये बेची जाएगी. दरअसल, शेयर बाजार में सूचीबद्ध कंपनियों के प्रमोटर्स अपनी हिस्सेदारी कम करने के लिए इसका इस्तेमाल करते है. सेबी के नियमों के मुताबिक, जो कंपनी ओएफएस जारी करना चाहती है, उसे इश्यू के दो दिन पहले इसकी सूचना सेबी के साथ-साथ एनएसई और बीएसई को देनी होती है. इसके बाद इन्वेस्टर्स एक्सचेंज को जानकारी देकर इस प्रक्रिया में शामिल हो सकते हैं. निवेशक अपनी बोली दाखिल करते हैं. इसके बाद कुल बोलियों के प्रस्तावों की गणना की जाती है. इससे पता चलता है कि इश्यू कितना सब्सक्राइब हुआ है. इसके बाद प्रक्रिया पूरी होने पर स्टॉक्स का अलॉटमेंट होता है.

ये भी पढ़ें- Power Grid की संपत्तियां बेचकर पूंजी जुटाएगी सरकार, कैबिनेट ने InvIT के तहत दी मंजूरी

हर दिन वेबसाइट पर सात करोड़ से ज्‍यादा लेाग करते हैं विजिट
शेयर बाजार में आईआरसीटीसी की एंट्री अक्टूबर, 2019 में हुई थी. कॉरपोरेशन का शेयर 320 रुपये के इश्यू प्राइस (Issue Price) के मुकाबले 626 रुपये के भाव पर लिस्ट हुआ. आज कॉरपोरेशन का शेयर बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) पर 2.57 फीसदी गिरकर 1,378.05 रुपये पर बंद हुआ. कॉरपोरेशन रेलवे में केटरिंग सर्विस देता है. इसके साथ ही ऑनलाइन टिकट बुकिंग और पैकेज्ड वाटर बेचता है. IRCTC Asia-Pacific की व्यस्ततम वेबसाइट में शामिल है. इसके जरिये हर महीने 2.5-2.8 करोड़ टिकट की बिक्री होती है. रोजाना इसकी वेबसाइट पर 7 करोड़ से ज्‍यादा लोग विजिट करते हैं.


hindi.news18.com

Leave a Comment