Categories: देश

…तो इसलिए स्कूल से बाहर हो जाएंगे दुनिया भर के लाखों बच्चे

कोरोना की चजह से बच्चों की शिक्षा पर संकट

नोबेल पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी का कहना है कि बच्चों की मदद के लिए 70 ट्रिलियन यूएस डॉलर की जरूरत

नई दिल्ली. कोरोना (Corona) की वजह से पूरे विश्व में बच्चों पर संकट मडरा रहा है. दुनिया के हर 5 बच्चों में से एक बच्चा 2 यूएस डॉलर (US Dollar) से भी कम में अपना गुजारा कर रहा है. अगर जल्दी ही कुछ नहीं किया गया तो यह दुनिया अपनी एक पीढ़ी खो देगी. लाखों बच्चे स्कूल (School) से बाहर हो जाएंगे. कोरोना का वैश्विक कहर लाखों बच्चों को बाल श्रम (Child labour), शिक्षा (Education) और स्वास्थ्य (Health) के दृष्टिकोण से एक दशक पीछे ढकेल सकता है.

यह कहना है दुनियाभर के 80 से ज्यादा नोबेल पुरस्कार (Nobel Prize) विजेताओं का. जिन्होंने ‘लॉरेट्‌स एंड लीडर्स फॉर चिल्ड्रेन’ के तहत यह आवाज उठाई है. लेकिन, अगर दुनियाभर की सरकारें मिलकर बाल अधिकारों की सुरक्षा के लिए कोशिश करती हैं, तो इस परेशानी को टाला जा सकता है. लेकिन देखने में आया है कि सरकार (Government) ऐसा करने में दिलचस्पी नहीं दिखा रही हैं.
बच्चों की मदद को जरूरत है 70 ट्रिलियन यूएस डॉलर की

नोबेल पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी कहते हैं, “दुनियाभर के 80 से ज्यादा नोबेल पुरस्कार विजेताओं, पूर्व राष्ट्रपति-प्रधानमंत्री और इंटरनेशनल लेबर ऑर्गनाइजेशन के दो पूर्व अध्यक्षों समेत धर्म गुरु दलाई लामा ने भी कोरोना से उपजे हालातों से दुनियाभर के बच्चों को उबारने के लिए 70 ट्रिलियन यूएस डॉलर की मदद की गुहार लगाई है. कुछ मदद मिल चुकी है. लेकिन जो मिली है वो बच्चों की संख्या को देखते हुए नाकाफी है. इसके लिए जी-20 के देशों से भी गुहार लगाई जा रही है.”इसे भी पढ़ें: हिजाब की वजह से चली गई हाथ में आई हुई नौकरी, पढ़िए गज़ाला अहमद की कहानी

दो दिवसीय इंटरनेशनल वेबिनार में उठेगी बच्चों की आवाज

कैलाश सत्यार्थी ने बताया, “बच्चों से जुड़ी इस परेशानी को दूर करने के लिए दो दिवसीय इंटरनेशनल वेबिनार का आयोजन किया जा रहा है. वेबिनार लॉरिएट्स एंड लीडर्स फॉर चिल्ड्रेन के तहत आयोजित होगा. यह तीसरा मौका है जब शिखर सम्मेलन में कोरोना महमारी की वजह से बच्चों पर मडराते वैश्विक संकट पर चर्चा होगी.

कोरोना की वजह से इस बार यह वर्जुअल सम्मेलन होगा. सम्मेलन में नोबेल पुरस्कार विजेता और वैश्विक नेता बच्चों के हक की लड़ाई लड़ने के लिए एक साथ आवाज उठाएंगे. सम्मेलन में प्रसिद्ध तिब्बती धर्मगुरु दलाई लामा, स्वीडन के प्रधानमंत्री स्टीफन लोफवेन, भारत की महिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी और विश्व प्रसिद्ध पॉप सिंगर रिकी मार्टिन भी शिरकत करेंगे. मालूम हो कि लॉरिएट्स एंड लीडर्स फॉर चिल्ड्रेन नामक संस्था की स्थापना कैलाश सत्यार्थी ने की है.


hindi.news18.com

Leave a Comment