Categories: देश

उमर अब्दुल्ला अपनी मर्जी से छोड़ रहे है सरकारी आवास, J&K प्रशासन को दी जानकारी

जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने अपने सरकारी आवास छोड़ने की जानकारी दी.

जम्मू-कश्मीर (J&K) के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुला ने ट्वीट (Tweet) करके जानकारी दी है कि, वो अक्टूबर से पहले अपने सरकारी आवास को अपनी मर्जी से खाली कर देंगे. साथ ही उन्होंने अपने ट्वीट में कहा कि, इसके लिए उन्हें कोई नोटिस (Notice) नहीं दिया गया.

श्रीनगर. जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने मंगलवार को कहा कि, ‘वो श्रीनगर का सरकारी आवास अक्टूबर से पहले छोड़ देंगे’. उन्होंने बताया कि, इसकी जानकारी जम्मू-कश्मीर प्रशासन को चिट्‌ठी के जरिए जुलाई में ही दे चुके है. वहीं उमर अब्दुल्ला ने अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा कि, ‘इसके लिए उन्हें कोई नोटिस नहीं दिया गया है, और अपनी मर्जी से सरकारी आवास खाली कर रहे है.

उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा, ‘मैं श्रीनगर में अपना सरकारी आवास अक्टूबर खत्म होने तक छोड़ दूंगा. यहां इस बात पर ध्यान दिया जाना चाहिए कि पिछले साल मीडिया में जैसी खबरें चलाई गई थीं कि मुझे इसके लिए नोटिस मिला है, उसके उलह मैं अपनी मर्जी से आवास खाली कर रहा हूं’. साथ ही उन्होंने जम्मू कश्मीर हॉस्पिटैलिटी एंड प्रोटोकॉल के इंचार्ज ऑफ एस्टेट्स को भेजी चिट्‌ठी भी शेयर की.

उमर अब्बदुला ने अपनी चिट्‌ठी में आगे लिखा कि उन्हें 2002 में श्रीनगर के गुपर रोड वीवीआईपी इलाके में सांसद बनने के बाद आवास अलॉट किया गया था. इस परिसर और इससे जुडे घरों को उन्होंने 2010 से जनवरी 2015 तक अपने मुख्यमंत्री काल के दौरान आधिकारिक आवास के तौर पर इस्तेमाल किया था. जब वे कार्यकाल मुक्त हुए. तो नियम के मुताबिक उन्हें श्रीनगर या जम्मू में सरकारी आवास अलॉट होना चाहिए था. लेकिन उन्होंने इसी आवास में रहना चुना.
उन्होंने चिट्ठी में आगे लिखा कि कुछ महीनों पहले पूर्व मुख्यमंत्रियों के अधिकारों में किए गए बदलाव के बाद अब मेरा यहां रहना अनाधिकृत हो गया है, क्योंकि सुरक्षा या फिर किसी और आधार पर मेरे अलॉटमेंट को रेगुलराइज़ करने की कोई कोशिश नहीं की गई है. यह मुझे अस्वीकार है. मेरे पास कभी ऐसी कोई सरकारी संपत्ति नहीं रही है, जो मुझे पद के हिसाब से न मिली हो और मेरा आगे भी ऐसा करने का कोई इरादा नहीं है.


hindi.news18.com

Leave a Comment