Categories: देश

अलगाववादी आतंकियों पन्नुन और निज्जर की सम्पत्तियां होंगी कुर्क

खालिस्तानी आतंकी गुरपतवंत सिंह.

अमेरिका में रहने वाला गुरपतवंत सिंह पन्नुन (Gurpatwant Singh Pannun) प्रतिबंधित ‘सिख्स फॉर जस्टिस’(एसएफजे) का सदस्य है जबकि कनाडा में रह रहा हरदीप सिंह निज्जर (Hardeep Singh Nijjar) ‘खालिस्तान टाइगर फोर्स’का प्रमुख है.

नई दिल्ली. राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) घोषित आतंकवादियों गुरपतवंत सिंह पन्नुन और हरदीप सिंह निज्जर की पंजाब में स्थित अचल सम्पत्तियां कुर्क करेगी. अमेरिका में रहने वाला गुरपतवंत सिंह पन्नुन (Gurpatwant Singh Pannun) प्रतिबंधित ‘सिख्स फॉर जस्टिस’(एसएफजे) का सदस्य है जबकि कनाडा में रह रहा हरदीप सिंह निज्जर (Hardeep Singh Nijjar) ‘खालिस्तान टाइगर फोर्स’का प्रमुख है. इस बीच एकअधिकारी ने बताया कि पन्नुन के नेतृत्व वाला एसएफजे सोशल मीडिया पर ‘सिख रेफरेंडम 2020’को फैलाने का प्रयास कर रहा है. यह सारी जानकारी एनआईए के अधिकारियों ने मंगलवार को दी.

एनआईए के एक अधिकारी के अनुसार, भारत सरकार ने गैरकानूनी गतिविधि (रोकथाम) (यूएपीए) कानून की धारा 51 ए के तहत प्रदत अधिकारों का इस्तेमाल करते हुए पन्नुन की अमृतसर और निज्जर की जालंधर में स्थित अचल सम्पत्तियों को कुर्क करने का आदेश दिया है.

यूएपीए कानून के तहत सात को घोषित किया गया आतंकी
इस वर्ष जुलाई में पन्नुन और निज्जर को सात अन्य व्यक्तियों के साथ यूएपीए कानून के प्रावधानों के तहत आतंकवादी घोषित किया गया था. एसएफजे और खालिस्तान टाइगर फोर्स, दोनों ही अलगाववादी खालिस्तानी संगठन हैं. अधिकारी ने बताया कि एनआईए, तथाकथित ‘खालिस्तान’ के लिए अलगाववादी संगठन एसएफजे द्वारा ‘सिख रेफरेंडम 2020’के बैनर तले शुरू किए गए एक अभियान से संबंधित एक मामले की जांच कर रही है.जिन सम्पत्तियों की कुर्की होनी हैं उसमें भूमि भी शामिल है

एनआईए ने जांच के दौरान पन्नुन की अमृतसर में और निज्जर की जालंधर में स्थित अचल सम्पत्तियों की पहचान की है और सरकार से उनकी कुर्की के लिए अनुरोध किया. एनआईए अधिकारी ने कहा कि जिन सम्पत्तियों की कुर्की होनी हैं उसमें भूमि भी शामिल है. अधिकारी ने बताया कि एसएफजे संगठन अमेरिका और कुछ अन्य देशों में बैठकें करने का भी प्रयास कर रहा है जिससे कि वे अपनी अवैध गतिविधियों के लिए लोगों को भड़का सकें और उन्हें जुटा सकें.


hindi.news18.com

Leave a Comment